राज्य

वाह योगी जी, देर से सही लेकिन सही फैसला लिया…अब होगा विकास नॉन स्टॉप !

The decision of CM Yogi

नई दिल्ली(रिपोर्ट अड्डा): उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने आखिरकार वो फैसला कर ही लिया जिसका इंतजार सरकार बनने के बाद से किया जा रहा था। जी हां योगी ने प्रदेश सरकार के बाद अब प्रशासन की ओवरहॉलिंग शुरू कर दी है। जैसे किसी पुरानी गाड़ी के पुर्जे बदल कर ओवरहॉलिंग के जरिए उसे नया बनाया जाता है उसी तरह से सीएम योगी ने प्रशासन से उन अधिकारियों को हटाकर सही फैसला किया है जो अखिलेश सरकार में चापलूसी के लिए जाने जाते थे।

ये हम नहीं कह रहे हैं बल्कि सीएम योगी के 20 आईएएस अधिकारियों के तबादले के बाद सोशल मीडिया पर कहा जा रहा है। बता दें कि योगी ने बुधवार को प्रदेश प्रशासन में भारी फेरबदल किया और 20 आईएएस अधिकैरियों के तबादले किए। इनमें से ज्यादातर वो अधिकारी हैं जो अखिलेश यादव के करीबी बताए जाते हैं। नोएडा अथॉरिटी के चेयरमैन रमा रमण, सीईओ दीपक अरवाल और गाजियाबाद विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष विजय यादव को हटा दिया गया है। इन्हे कोई नई पोस्टिंग नहीं देते हुए वेटिंग लिस्ट में रखा गया है।

इनके साथ ही सपा सरकार में प्रमुख सचिव रही अनीता सिंह समेत 9 अफसरों को वेटिंग ललिस्ट में रखा गया है। प्रदेश में अहम पदों पर उन अफसरों को तैनात किया गया है जो पिछली सरकारों के दौरान हाशिए पर थे। नवनीत सहगल की जगह अवनीश अवस्थी को उनके सभी विभाग दे दिए गए हैं। बता दें कि अवनीश अवस्थी ईमानदार अधिकारी और तेज फैसले करने वाले अधिकारी माने जाते हैं। पिछली सपा सरकार के दौरान वो लगातार हाशिए पर रहे थे। उन्हे अहम पदों से दूर रखा जाता था।

बता दें कि नवनीत सहगल ऐसे अधिकारी हैं जिनकी करीबी सपा और बसपा दोनों से है। ऐसे में अब सहगल की जगह अवनीश अवस्थी को मुख्यमंत्री का प्रमुख सचिव बनाया गया है। जिन अधिकारियों को वेटिंग लिस्ट में डाला गया है उनमें हरिओम का नाम भी शामिल है। बता दें कि ये वहीव हरिओम हैं जिन्होंने 2006 में गोरखपुर में सांप्रदायिक तनाव के दौरान योगी की गिरफ्तारी करवाई थी। कुल मिलाकर जिस तरह से योगी ने ईमानदार और तेजी से काम करने वाले अफसरों को चुना है उसके बाद अब कहा जा सकता है कि प्रदेश में विकास तेजी से होगा और सरकार के वादों के तेजी से जमीन पर उतारा जाएगा।

Read Also : सीएम योगी का वो फैसला, जो आपकी जिंदगी बदल देगा !

Leave a Comment