ये नेता बनेगा हिमाचल प्रदेश का मुख्यमंत्री मोदी ने लगाई मुहर

हिमाचल प्रदेश में मुख्यमंत्री के

हिमाचल प्रदेश में मुख्यमंत्री के

चुनावी राजनीति मं फतह हासिल करने के बाद बीजेपी के सामने एक बड़ी समस्या खड़ी हो गई है, गुजरात में विजय रुपाणी चुनाव जीत गए हैं, लेकिन उनके सीएम बनने को लेकर संदेह है, वहीं दूसरी तरफ हिमाचल प्रदेश में तो बीजेपी के सीएम कैंडिडेट प्रेम कुमार धूमल चुनाव ही हार गए हैं, इस से पार्टी के सामने विकट समस्या खड़ी हो गई है. अब मुख्यमंत्री कौन होगा, इसको लेकर मंथन जारी है। बीजेपी के लिए हिमाचल प्रदेश में सीएम तय करना काफी मुश्किल होने वाला है।

हिमाचल प्रदेश में प्रेम कुमार धूमल के साथ प्रदेश अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती, पूर्व मंत्री रवींद्र सिंह रवि, गुलाब सिंह ठाकुर जो धूमल के समधी हैं, इंदू गोस्वामी और रणधीर शर्मा भी हार गए हैं। वरिष्ठ नेताओं की हार के बाद बीजेपी आलाकमान के सामने ये समस्या खड़ी हो गई है कि वो किसी सीएम की कुर्सी पर बिठाए। इसी के बीच नेताओं ने अपनी दावेदारी पेश करनी शुरू कर दी है। इस रेस में सबसे आगे जयराम ठाकुर और जेपी नड्डा चल रहे हैं। इसके अलावा भी कुछ नाम हं जो चर्चा में हैं।

माना जा रहा है कि बीजेपी हिमाचल प्रदेश में उस शख्स को जिम्मेदारी देगी तो उसे निभाने में पूरी तरह से सक्षम हो। केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा की दावेदारी भी चर्चा में हैं। हालांकि एक खेमा ये भी मान रहा है कि हरियाणा की ही तरह हिमाचल में भी बैक डोर से किसी नेता को सीएम बनाया जा सकता है। इस कोशिश में बीजेपी अजय जम्वाल पर दांव खेल सकती है। बता दें कि अजय जम्वाल संघ से जुड़े रहे हैं और वर्तमान नॉर्थईस्ट में पार्टी संगठन का काम संभाल रहे हैं।

हिमाचल प्रदेश में मुख्यमंत्री के नाम पर मंथन के लिए केंद्रीय नेता भेजे गए हैं। अगले दो दिन में बीजेपी की विधायक दल की बैठक होने वाली है। पार्टी ने तीन वरिष्ठ नेताओं जयराम ठाकुर, डॉ. राजीब बिंदल और विपिन परमार को दिल्ली बुलाया है। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और केंद्रीय मंत्री नरेंद्र तोमर हिमाचल का दौरा करेंगे और वहां के नेताओं और विधायकों की राय जानेंगे। उसके बाद ही सीएम के नाम का एलान कर दिया जाएगा। पूरी संभावना है कि जयराम ठाकुर और जेपी नड्डा में से किसी एक को सीएम बनाया जा सकता है।