Hindi अंतरराष्ट्रीय

अब और नहीं भाग पाएगा मोस्ट वांटेड, दाऊद को पकड़ने के लिए मोदी सरकार का ब्लू प्रिंट तैयार !

the-modi-government-s-blueprint-to-catch-daud ibrahim

दाऊद पर किए देश से वादे पर मोदी सरकार का ब्लूप्रिंट तैयार हो चुका है। खुफिया जानकारी के मुताबिक सरकार ने दाऊद पर शिकंजा कसने के लिए 50 अधिकारियों की एक खास टीम तैयार की है।

नई दिल्ली (ब्यूरो, रिपोर्ट अड्डा): लोकसभा 2104 चुनाव से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मुख्य वादों  में अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद को पकड़कर सलाखों के पीछे भी ढकेलना शामिल था। पहले 2 साल तक कोई खास तैयारी नहीं दिखने पर मोदी सरकार को विपक्ष के प्रहारों को झेलना पड़ा था। लेकिन अब, मोदी सरकार एक खास दिशा में बढ़ती हुई दिखाई दे रही है। दाऊद को लेकर सरकार की तैयारी अब एक्शन के स्टेज पर पहुंच चुकी हैं।

दुनिया जानती है कि दाऊद पाकिस्तान की सरपरस्ती में अपने काले कारनामों को अंजाम दे रहा है। वो पाकिस्तान में रहता है, वही से दुनिया भर में अपनी दहशत का बिजनेस चलाता है। कहा तो ये भी जाता है कि बॉलीवुड में दाऊद का दबदबा अब भी कायम है। लेकिन पिछले कुछ महीनों में काफी सारी चीजों में बदलाव आया है। जैसे की, पिछले कुछ महीनों में दाऊद की एक्टिविटी कुछ कम हुई है। जिसका कारण है मोदी सरकार का दबाव !

दाऊद पर किए देश से वादे पर मोदी सरकार का ब्लूप्रिंट तैयार हो चुका है। खुफिया जानकारी के मुताबिक सरकार ने दाऊद पर शिकंजा कसने के लिए 50 अधिकारियों की एक खास टीम तैयार की है। इस टीम में देश भर के तमाम स्पेशलिस्ट अधिकारी शामिल हैं। जिनका काम है दाऊद के हर कदम पर पैनी नजर रखना, फिर चाहे वो बिजनेस डील हो या फिर कोई साजिश।

50 अधिकारियों की टीम के अलावा पीएम मोदी ने ईडी, इनकम टैक्स, रॉ, सीबीआई और एफआईयू की एक कंबाइंड टीम का गठन किया है। इतनी बड़ी टीम का असर ये हो रहा है कि अब दाऊद कोई भी मूवमेंट खुद नहीं कर पा रहा है । आलम ये हो चुका है वो न तो कोई फोन कर रहा है और न ही कोई फोन अटेंड कर पा रहा है। भारत की ओर से बनाई गई इस टीम से दाऊद के साथियों के भी पसीन छूट रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक दाऊद और उसका परिवार इस वक्त एक साथ है। और साथ ही वो एक बुलेट प्रूफ गाड़ी मेें चल रहे हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक हाल ही में दाऊद ने अपने लिए 6 बुलेट प्रुफ गाड़ियां खरीदी हैं। हालांकि दाऊद की तबियत काफी खराब भी है। ऐसे में दाऊद के दहशत के बिजनेस का काम इस वक्त दाऊद की पत्नी मेहजनीब शेख संभाल रही है। दाऊद के सारे कॉल भी मेहजनीब शेख ही अटेंड करती है। जानकारी के मुताबिक दाऊद पूरे परिवार के साथ पाकिस्तान के कराची में हैं।

कराची में दाऊद को शेख हनीफ मर्चेंट के नाम से जाना जाता है। दाऊद का कोई मैसेज अगर कराची से बाहर भेजना होता है तो वो काम भी मेहजनीब शेख करती है। पिछले कुछ महीनों में दाऊद ने अपने फोन को हाथ तक नहीं लगाया है। इस मूवमेंट में अमेरिका भी भारत की मदद कर रहा है। अमेरिका की होम लैंड सिक्यूरिटी भारत सरकार के साथ एक लिस्ट साझा करेगी।

इस लिस्ट को टेरिरिस्ट स्क्रिनिंग सेटर यानि की टीएससी से भी साझा किया जाएगा। अब भारत सरकार के हाथ में ऐसे बहुत से सबूत है कि जिसके आधार पर दाऊद की धरपकड़ की जा सकती है। दाऊद की तबियत खराब होने की वजह से भारत के पक्ष में काफी कुछ चीजें है। ऐसे में जल्दी ही कुछ बड़ी खबर आने के अनुमान है।

मोदी सरकार की भी कोशिश है कि यूपी चुनाव से पहले दाऊद को जेल के पीछे ढकेल दिया जाए। सरकार अगर ऐसा करती है तो चुनावों में बीजेपी को बहुत मदद मिलेगी। जनता के प्रति विश्वास भी बढ़ेगा। इसलिए इस वक्त एक्शन तेजी से लिए जा रहे हैं। जिन 50 अधिकारियों की टीम इस काम में लगी है उसकी अगुवाई पीएम मोदी के करीबी अधिकारियों में से एक कर रहे हैं। जोकि हर दिन की रिपोर्ट भी भेज रहे हैं। इसलिए कहा जा सकता है कि दाऊद के लिए अब और भागना मुश्किल होगा।

Leave a Comment