promise that the BJP government has completed

नई दिल्ली(रिपोर्ट अड्डा) : उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में प्रचंड जीत के बाद अब बीजेपी की सरकार बनने वाली है। यूपी में खास तौर पर बीजेपी को जिस तरह से जनता ने समर्थन दिया है उसके बाद बीजेपी के सामने चुनौतियां भी हैं कि वो जनता की उम्मीदों पर खरा उतरे। इसके लिए बीजेपी ने अपनी तरफ से कोशिश भी शुरू कर दी है। राज्य में बीजेपी की सरकार 18 मार्च को शपथ लेगी। लेकिन उसके पहले ही पार्टी ने अपने सबसे बड़े चुनावी वादे को पूरा करने की दिशा में कदम बढ़ा दिए हैं।

बात कर रहे हैं किसानों की कर्ज माफी के वादे के बारे में। यूपी में बीजेपी ने वादा किया था कि वो सरकार बनने के साथ ही किसानों का कर्ज माफ करेगी। बता दें कि यूपी में लगभग 2.30 करोड़ किसान हैं। इन पर लगभग 90 हजार करोड़ रूपये का कर्ज है। सरकार बनने से पहले बीजेपी ने अपने वादे को पूरा करने की कोशिश शुरू कर दी है। राज्य के अधिकारियों ने इस बात का अनुमान लगाना शुरू कर दिया है कि किसानों का कर्ज माफ किस तरह से किया जा सकता है।

राज्य में किसानों के कर्ज को माफ करने पर सरकारी खजाने पर लगभग 960 हजार करोड़ की चपत लगेगी। लेकिन इस मुद्दे के सहारे बीजेपी ने किसानों का दिल जीता था। अब सरकार बनने के बाद ही बीजेपी पहला फैसला किसानों की कर्ज माफी से संबंधित ले सकती है। दिल्ली में गुरुवार को बीजेपी संसदीय दल की बैठक में पीएम मोदी ने खुद इस बात को रेखांकित किया था कि जनता की उम्मीदों पर खरा उतरना होगा।

साफ है कि यूपी में सरकार बनने से पहले ही जिस तरह से बीजेपी सकारात्मक फैसले लेने की बाद कर रही है उस से ये तय है कि वो जनता की उम्मीदों पर खरा उतरने की पूरी कोशिश करेगी। वहीं विरोधी नेताओं की नींद इस बात से उड़ी हुई है कि अगर बीजेपी ने अपने वादे पूरे कर दिए तो उनकी राजनीति का क्या होगा। अखिलेश यादव पहले ही कह चुके हैं कि वो देखना चाहते हैं कि बीजेपी किस तरह से किसानों का कर्ज माफ करती है।

Read Also : पांच राज्यों के बाद मोदी शाह के सामने ये हैं अगली चुनौतियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *