चर्चित राज्य

स्मृति ईरानी ने अखिलेश यादव पर हमला नहीं किया…सियासी बम फोड़ दिया…

smriti irani attacked on akhilesh yadav

नई दिल्ली(रिपोर्ट अड्डा): उत्तर प्रदेश की सियासत में अब स्मृति ईरानी ने अपनी छाप छोड़नी शुरू कर दी है। अभी तक प्रचार के शोर में पीएम मोदी, अमित शाह और राजनाथ सिंह की आवाज सुनाई दे रही थी। लेकिन अब स्मृति ईरानी की आवाज भी सुनाई दे रही है। वो विरोधियों पर खुलकर हमला कर रही हैं।

शाहजहांपुर में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए स्मृति ईरानी ने जिस अंदाज में अखिलेश यादव पर हमला किया उस से समाजवादी पार्टी के खेमे में हलचल तेज हो गई है।स्मृति ईरानी ने जनता के सामने पारिवारिक मूल्यों की बात की। उन्होंने कहा कि एक बेटे ने स्ता के लालच में अपने पिता को ही त्याग दिया। स्मृति ईरानी ने कहा कि अखिलेश यादव ने अफने पिता की पार्टी को उनसे छीन लिया। ये क्या यूपी का विकास करेंगे। ईरानी ने कहा कि जनता को तय करना है कि वो किसके साथ है। पिता ने सारी जिंदगी कांग्रेस के विरोध की राजनीति की और बेटे ने उसी कांग्रेस के साथ हाथ मिला लिया।

स्मृति ईरानी ने कहा कि प्रदेश की जनता सवाल पूछ रही है कि अखिलेश यादव आपने पांच साल क्या किया। ईरानी ने तंज कसते हुए कहा कि अखिलेश यादव ये सवाल पूछ रहे हैं कि अच्छे दिन कहां हैं। वो पांच साल तक सीएम रहे उसके बाद भी अच्छे दिन नहीं ला पाए। अब बीजेपी की सरकार प्रदेश में अच्छे दिनों का सपना साकार करेगी। स्मृति ईरानी ने अखिलेश पर पिता को धोखा देने का आरोप लगाकर एक तरह से प्रदेश की जनता की भावनाओं को झकझोरने की कोशिश की है।

अखिलेश यादव खुद को हरा साबित करने में लगे हुए हैं वहीं अब विरोधी उनके खिलाफ वो मुद्दे उठा रहे हैं जिन पर अखिलेश बचते रहे हैं। स्मृति ईरानी ने कानून व्यवस्था का मुद्दा उठाकर बोला कि बुलंदशहर की घटना को कौन भूल सकता है। सपा के राज में प्रदेश की मां बहनों और बेटियों को डर के जीना पड़ता है। उनका सम्मान खो गया है। प्रदेश के मंत्री की भैंस खो जाती है तो पूरा पुलिस महकमा उसे खोजने निकल पड़ता है। लेकिन अपराधइयों के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया जाता है।

Read Also : राहुल गांधी का बयान सुनकर अखिलेश हैरान ये तो मुझे भी डुबोएगा !

Leave a Comment