smajwadi party akhilesh ko banayega new arjun

smajwadi party akhilesh ko banayega new arjun

नई दिल्ली (ब्यूरो,रिपोर्ट अड्डा): उत्तर प्रदेश के सीएम अखिलेश यादव के सामने इस वक्त परिवार और पार्टी का एक जबरदस्त चक्रव्यूह तैयार हो गया है। जहां अखिलेश को न सिर्फ इस चक्रव्यूह को भेदना है बल्कि अपने रिश्तों की गरिमा को बनाए रखना है। चाचा शिवपाल से आमना सामना करके, अखिलेश मुलायम सिंह की नाराजगी के पात्र बन गए हैं।

शिवपाल ने अखिलेश को कई बार पार्टी में उनके कद और हद का एहसास कराने की कोशिश की है। कौमी एकता दल के विलय से शुरू हुई तनातनी अब अपने चरम पर पहुंच चुकी है। अखिलेश ने शिवपाल के खिलाफ खुल कर बगावत तब की, जब मुलायम ने शिवपाल का पलड़ा भारी करते हुए उन्हे अध्यक्ष पद पर बिठाया था।

अखिलेश और शिवपाल की तनातनी आखिर में अखिलेश की छवि के लिए फायदेमंद होगी। अगर अखिलेश की जिद पर मुलायम मुहर लगाते हैं तो समाजवादी पार्टी में अखिलेश का नया कद बनेगा। चुनाव में भी अखिलेश की बेदाग छवि का संकेत जाएगा। और अगर मुलायम शिवपाल की तरफ जाते हैं तो आने वाले चुनावों में नुकसान का ठीकरा शिवपाल और मुलायम पर पड़ेगा।

मुलायम के सामने एक तरफ प्यारा भाई है तो दूसरी तरफ दुलारा बेटा। मुलायम की तरफ दोनों की निगाहें हैं। हालात का आंकलन के करने पर मालूम होता है कि रिश्तों के तराजू में अखिलेश का वजन ज्यादा होगा। अगर ऐसा होता है तो भी अखिलेश के लिए चुनौतियां खड़ी हो जाएंगी। क्योकि इस फैसले का खामियाजा चुनाव में उठाना पड़ेगा। यानि की कुल मिलाकर अखिलेश की हालत इस वक्त महाभारत के अर्जुन की तरह हो गई है। वो अर्जुन जो अभी-अभी अभिमन्यू के किरदार से निकला है। जिसने अपने ही परिवार के चक्रव्यूह को तोड़ने की कोशिश की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *