Hindi राज्य

सिद्धू का बीजेपी से बाहर जाना, कहीं ‘घाटे का सौदा’ न साबित हो जाए !

sidhu-सिद्धू

नई दिल्ली (ब्यूरो, रिपोर्ट अड्डा ) : राजनीति में कब क्या हो जाए इसका अंदाजा लगाना मुश्किल होता है और खासकर जिस राज्य में चुनाव होने होते है वहां की आबो-हवा में अपने आप सियासी खुस्की को महसूस किया जाने लगता है। 2017 में जिन राज्यों में चुनाव होने हैं उन राज्यों में पंजाब का भी नाम आता है। खासकर पंजाब की राजनीति में लोगों की दिलचस्पी तब बढ़ गई जब केजरीवाल ने अपनी धमक देना शुरू किया।

आज से कुछ महीनों पहले केजरीवाल ने एक प्रेसवार्ता के दौरान सिद्ध को लेकर बयान दिया था कि सिद्धू आदमी तो ठीक हैं लेकिन गलत पार्टी में काम कर रहे हैं। बस तभी से सियासी सुगबुगाहट का दौर शुरू हुआ और आखिर में बीजेपी का पंजाबी सरदार पार्टी से निकल गया।

जैसी की उम्मीद थी कि सिद्धधू आप की पगड़ी पहन लेंगे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। नवजोत सिद्धू को लेकर आप ने दिलचस्पी तो दिखाई लेकिन पार्टी में पड़ी फूट का एहसास होने के बाद, नवजोत दंपत्ति से दूरी बना ली। सिद्धू बीजेपी से दूरी बना चुके हैं। आप के करीब नहीं जा पा रहे हैं, ऐसे में सिचुएशन भयानक कन्फ्यूजिंग हो चुकी है, इसी बीच नई खबरें अपने कारवां को आगे बढ़ा रही हैं।

सिद्धधू जल्द ही अमरिंदर सिंह के साथ दिखाई दे सकते है। जी हां, नई सगबुगाहट के हिसाब से देखा जाए तो सिद्धू जल्द ही कांग्रेस के लिए वोट मांगते भी दिखाई दे सकते हैं। अगर ऐसा हुआ तो सिद्धू के लिए ये एक घाटे का सौदा कहलाएगा। क्योकि इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि राजनीति के इतिाहास में कांग्रेस का सबसे बुरा दौर है।

ऐसे में अगर किसी भी स्तर पर सिद्धू कांग्रेस से डील करते हैं तो उनके लिए फायदे का सौदा नहीं होगा, वैसे एक खेमा ये भी कह रहा है कि अभी सिद्धूू अपना नफा नुकसान माप रहे है और आप से डील की उधेड़बुन में लगे हुए है, लेकिन जब तक कोई फैसला नहीं आता है तब तक कयासों का बाजार तो गर्म रहेगा।

NEXT >> लालू और नीतीश में ठनी, यूपी चुनाव लड़ने को लेकर जंग

Advertisement

रिलेटेड कंटेंट के लिए नीचे स्क्रॉल करे..

Loading...
Advertisement

Leave a Comment