राज्य

सिद्धू को मिली सजा…कांग्रेसी बोले… जो मोदी का नहीं हुआ वो हमारा क्या होगा !

 

नई दिल्ली(रिपोर्ट अड्डा) : पंजाब की सियासत में कांग्रेस के लिए फिलहाल सब अच्छा हो रहा है। कांग्रेस ने राज्य में पूर्ण बहुमत हासिल किया है। हालांकि पंजाब में जीत के बाद भी कांग्रेस को यूपी औऱ उत्तराखंड की करारी हार का दर्द हमेशा परेशान करता रहेगा। बात पंजाब की कर रहे हैं। पंजाब में कांग्रेस की जीत के पीछे कैप्टन अमरिंदर सिंह की मेहनत है। इसी के साथ ये भी कहा जा रहा है कि सिद्धू के आने से पार्टी को ताकत मिली।

अब सिद्धू को लेकर कांग्रेस में मंथन का दौर जारी है। कहा जा रहा है कि सिद्धू को बड़ी जिम्मेदारी दी जा सकती है। उन्हें सरकार में अहम मंत्रालय दिया जा सकता है। कयास तो इस बात के लगाए जा रहे हैं कि सिद्धू को डिप्टी सीएम तक बनाया जा सकता है। हालांकि पंजाब कांग्रेस में कैप्टन का खेमा इस बात से खुश नहीं है। वो सिद्धू को सरकार में शामिल नहीं करना चाह रहा है। इसके पीछे कारण ये है कि सिद्धू ने जिस अंदाज में बीजेपी और मोदी का साथ छोड़ा है वो उन्हे पच नहीं रहा है।

पंजाब कांग्रेस का एक गुट ये मानता है कि सिद्धू ने भले ही कांग्रेस के  लिए प्रचार किया है। वो कांग्रेस के सदस्य भी हैं। लेकिन वो अपने बयानों के कारण अपनों के लिए ही मुसीबत खड़ी करते रहे हैं। कुछ कांग्रेसी नेताओं ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि सिद्धू जब बीजेपी में थे तब भी वो बीजेपी के लिए मुश्किल खड़ी करते थे। अकाली दल के खिलाफ सिद्धू का आक्रामक रवैया कोई नहीं भूला है। ऐसे में कहा जा रहा है कि सिद्धू दोधारी तलवार की तरह हैं। उन्हे संगठन में फिट किया जाए।

वहीं कांग्रेस के कार्यकर्त चुनाव जीतने के बाद अब खुलकर बोल रहे हैं। इनका कहना है कि जो पीएम मोदी का नहीं हुआ वो कांग्रेस का क्या होगा। साफ है कि सिद्धू की छवि राज्य में ऐसी बन रही है जैसे उन्होंने बीजेपी और मोदी के साथ धोखा किया है। फिलहाल ये कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ताओं के मन की बात है। देखना ये होगा कि अमरिंदर सिंह और राहुल गांधई क्या फैसला करते हैं।

Read Also : सिद्धू तो बवालिया काम करने वाले हैं…पंजाब में कांड हो जाएगा

Leave a Comment