शरद यादव थाम सकते हैं कांग्रेस का हाथ, तीन सीटों को लेकर हो रही है डील

बिहार में कांग्रेस को मजबूत करने के लिये पार्टी नई रणनीति बना रही है, पार्टी तारिक अनवर को मुस्लिम चेहरा और शरद यादव को यादव चेहरा के रुप में इस्तेमाल करना चाहती है।

New Delhi, Oct 28: जदयू के पूर्व अध्यक्ष और लोकतांत्रिक जनता दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष जल्द ही कांग्रेस का हाथ थाम सकते हैं, कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक शरद यादव ने कांग्रेस से तीन सीटों की मांग की है, कांग्रेस चाहती है कि 2019 लोकसभा चुनाव में बिहार में एनडीए को जोरदार टक्कर दी जाए, इसके लिये वो मजबूत चेहरों को अपने साथ जोड़ने में लगी हुई है, सूत्रों के अनुसार शरद यादव की पार्टी का जल्द ही कांग्रेस में विलय होगा।

तीन सीटों पर बात
लोकतांत्रिक जनता दल के नेताओं के अनुसार उनकी कांग्रेस से बात चल रही है, पार्टी अध्यक्ष शरद यादव ने तीन सीट मधेपुरा, जमुई और सीतामढी की मांग रखी है, अगर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी उनकी मांग मान लेते हैं, तो फिर शरद यादव अपनी पार्टी का कांग्रेस के साथ विलय कर लेंगे। आपको बता दें कि मधेपुरा से खुद शरद यादव चुनाव लड़ते हैं।

कांग्रेस नई रणनीति बनाने में जुटी
बिहार में कांग्रेस को मजबूत करने के लिये पार्टी नई रणनीति बना रही है, पार्टी तारिक अनवर को मुस्लिम चेहरा और शरद यादव को यादव चेहरा के रुप में इस्तेमाल करना चाहती है। तारिक अनवर एनसीपी के टिकट पर कटिहार से सांसद चुने गये थे, हालांकि पिछले दिनों शरद पवार से नाराज होकर उन्होने पार्टी छोड़ दी थी, वो आधिकारिक रुप से कांग्रेस ज्वाइन कर चुके हैं।

तारिक अनवर को बड़ी जिम्मेदारी
सूत्रों का दावा है कि कटिहार सांसद तारिक अनवर को जल्द ही बड़ी जिम्मेदारी सौंपी जाएगी, उन्हें राष्ट्रीय महासचिव बनाया जाएगा। 2019 लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पूरी मजबूती के साथ मैदान में उतरना चाहती है, इसी वजह से पार्टी उन चेहरों को अपने साथ जोड़ने में लगी है, जिन्हें बड़े मंच की तलाश है, इसी के अंतर्गत शरद यादव और तारिक अनवर पर पार्टी की नजर है।

राजद को बड़ा दिल दिखाना चाहिये
कांग्रेस पार्टी चुनावी तैयारियों को लेकर उत्साह में हैं, बिहार कांग्रेस कार्यकारी प्रभारी कौकब कादरी ने कहा कि महागठबंधन में भी कांग्रेस और राजद के बीच बराबर सीटों पर समझौता होनी चाहिये। जिस तरह एनडीए में बीजेपी ने बड़ा दिल दिखाते हुए जदयू को बराबर सीटें दी है, उसी तरह राजद को भी बड़ा दिल दिखाते हुए कांग्रेस को बराबर सीटें ऑफर करनी चाहिये। हालांकि ये संभव नहीं लग रहा है, कि राजद कांग्रेस को बराबर सीटें देगी, लेकिन कांग्रेस नेता राजद पर दबाव बनाने की रणनीति में जुट गये हैं।