तेजस्वी की न्याय यात्रा में जमकर चले लात-घूंसे, पार्टी के वरिष्ठ नेता देखते रहे तमाशा

वीडियो देखने के लिये नीचे जाएं….
बिहार में इन दिनों नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव संविधान बचाओ न्याय यात्रा कर रहे हैं, हालांकि जहानाबाद के इस कार्यक्रम में वो बीमार होने की वजह से नहीं पहुंच पाए।

New Delhi, Nov 02 : बिहार के जहानाबाद में राजद की न्याय यात्रा के दौरान जमकर लात-घूंसे चले, पार्टी के वरिष्ठ नेता मंच पर मौजूद थे, लेकिन किसी ने उनकी परवाह नहीं की और उनके सामने ही एक-दूसरे पर जमकर लात-घूंसों की बारिश की। दरअसल पूर्व विधायक के बेटे और विधायक सुरेन्द्र यादव के समर्थकों के बीच हाथापाई हुई, इस दौरान पूर्व एमएलए मुन्नी लाल यादव के पोस्ट भी फाड़े गये, आपको बता दें कि गुरुवार को जहानाबाद में संविधान बचाओ न्याय यात्रा का कार्यक्रम आयोजित किया गया था। राजद नेता आपस में भिड़े मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अतरी विधानसभा से पूर्व विधायक राजेन्द्र यादव के बेटे और विधायक सुरेन्द्र यादव के समर्थक आपस में ही भिड़ गये, कहा जा रहा है कि टिकट को लेकर दोनों गुटों में पहले कहासुनी हुई, फिर बात झगड़े तक पहुंच गई, उसके बाद दोनों गुटों ने इस बात की भी परवाह नहीं की, कि मंच पर पार्टी के वरिष्ठ नेता बैठे हैं, दोनों गुटों ने एक-दूसरे पर लात-घूंसो की बारिश कर दी। मंच से शांति बनाये रखने की घोषणा पार्टी के वरिष्ठ नेता मंच पर बैठकर चुपचाप मूकदर्शक की तरह सबकुछ देख रहे थे, बार-बार मंच से शांति बनाये रखने की घोषणा की जा रही थी, लेकिन दोनों गुट में से कोई भी कुछ भी सुनने को तैयार नहीं था, दोनों गुटों के समर्थक अपने-अपने नेता के नाम लेकर नारेबाजी कर रहे थे, कुछ देर बाद कुछ समर्थक लाठी लेकर मंच पर पहुंच गये। तेजस्वी नहीं हो सके शामिल आपको बता दें कि बिहार में इन दिनों नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव संविधान बचाओ न्याय यात्रा कर रहे हैं, हालांकि जहानाबाद के इस कार्यक्रम में वो बीमार होने की वजह से नहीं पहुंच पाए। अब ये मामला जल्द ही उनके पास पहुंचेगा, संभव है कि दोनों गुटों के खिलाफ तेजस्वी एक्शन लें, क्योंकि इस घटना से पार्टी की छवि भी दागदार हुई है। मंच पर चढने को लेकर झगड़ा बताया जा रहा है कि मंच पर चढने को लेकर दोनों गुटों में झगड़ा शुरु हुआ, दोनों गुट के लोग मंच पर आगे पहुंचने के लिये धक्का-मुक्की कर रहे थे, दोनों गुट के लोग अपने-अपने नेता के नाम का नारा लगाना शुरु कर दिया। हंगामे के समय राजद प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे मंच पर ही मौजूद थे, उनके अलावा पार्टी के वरिष्ठ नेता आलोक मेहता और शिवचंद्र राम भी मौजूद थे, लेकिन कार्यकर्ताओं को हंगामा करता देख वो तमाशबीन बने रहे।