बार-बार शिव की शरण में क्यों जा रहे हैं राहुल गांधी, उसके पीछे है ये वजह ?

गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान राहुल गांधी की शिवभक्ति सियासी गलियारों में चर्चा का विषय रही, बीजेपी ने उन पर हिंदू कार्ड खेलने का आरोप लगाया।

New Delhi, Oct 31 : पहले केदारनाथ, फिर गुजरात चुनाव के दौरान सोमनाथ मंदि र में दर्शन के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की शिवभक्ति सियासी गलियारों में चर्चा का विषय है, अब हाल ही में उन्होने उज्जैन स्थित महाकाल के दर्शन किये हैं, महाकाल के दर्शन दादी इंदिरा गांधी से लेकर पिता राजीव गांधी और मां सोनिया गांधी भी कर चुकी हैं। आपको बता दें कि इंदिरा गांधी देश की पहली महिला पीएम ने 1979 में सत्ता में लौटने से पहले महाकालेश्वर में जाकर दर्शन किया था, राजीव गांधी 1987 तो सोनिया 2008 में दर्शन करने पहुंची थी।

क्यों खास हैं महाकाल ?
मालूम हो कि देश भर के बारह ज्योतिर्लिगों में एक महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग सबसे खास है, उनका अपना खास महत्व है, महाकाल शिव के वो रुप हैं, जो मृत्यु के देवता हैं, शिवपुराण के 22वें अध्याय के अनुसार दूषण नाम के दैत्य से अपने भक्तों की रक्षा के लिये भगवान शिव ज्योति के रुप में वो उज्जैन में प्रकट हुए थे, शिवपुराण के अनुसार दूषण संसार का काल था और शिव ने उसे खत्म कर दिया था, जिसके बाद वो महाकाल के नाम से स्थापित हुए।

अकाल मृत्यु
ऐसी मान्यता है कि जिसके परिवार में लगातार अकाल मृत्यु हो रही है, या फिर उन्हें अकाल मृत्यु का डर सता रहा है, उन्हें महाकाल के शरण में जाना चाहिये, शिव ऐसे भक्तों को अभयदान देते हैं, मार्केंडेय ऋषि ने मृत्यु के देवता यमराज से बचने के लिये शिव को पुकारा और जीवन दान हासिल किया था।

हिंदू कार्ड या सचमुच की भक्ति
शिव के प्रति आस्था दिखा रहे कांग्रेस अध्यक्ष दुर्गम कैलाश मानसरोवर की यात्रा भी कर चुके हैं, जब वो कैलाश मानसरोवर पहुंचे थे, तो उन्होने ट्वीट किया था, कि एक इंसान तब ही कैलाश जाता है, जब उसे बुलावा आता है, मैं काफी खुश हूं, कि मुझे ये मौका मिला, मैं काफी खुश हूं, मैं जो भी यहां देखूंगा, वो आपके साथ साझा करुंगा।

क्यों शिव की पूजा कर रहे हैं राहुल गांधी ?
गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान राहुल गांधी की शिवभक्ति सियासी गलियारों में चर्चा का विषय रही, बीजेपी ने उन पर हिंदू कार्ड खेलने का आरोप लगाया, जबकि राहुल पूरी गंभीरता के साथ पब्लिक के बीच खुद को शिवभक्त बताते रहे, उन्होने मीडिया से कई बाप कहा कि उनकी दादी इंदिरा गांधी शिव जी की पूजा किया करती थी, उनके पिता राजीव गांधी भी शिवभक्त रहे हैं, उनका पूरा परिवार शिव के आराध्य रहे हैं।