priyanka ghandhi 2019

priyanka ghandhi 2019

कांग्रेस की हार का सिलसिला जारी है। देश की सबसे पुरानी पार्टी को तब झटका लगा जब गुजरात जैसे इलाके में भी राहुल गांधी को लोगों ने नकार दिया जहां पर पिछले 22 साल से भारतीय जनता पार्टी का कब्जा है। ये बिल्कुल साफ संकेत है कि राहुल की अगुवाई पर न तो जनता को भरोसा है और न ही खुद कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता भरोसा कर पा रहे हैं। लंबे वक्त से कयास लगाये जा रहे हैं कि प्रियंका गांधी राजनीति में एंट्री ले सकती हैं। गुजरात और हिमाचल जैसे राज्यों में मिली हार के बाद प्रियंका ने तय कर लिया है कि अब कमान वो अपने हाथ में लेंगी।

पार्टी के विश्वस्त सूत्रों से जानकारी मिली है कि प्रियंका गांधी साल 2019 के लोकसभा चुनाव में सोनिया गांधी की सीट से चुनाव लड़ेंगी। इसी चर्चा के बीच इन्दिरा गांधी के राजनीतिक गुरू गया प्रसाद से जुड़ी एक जानकारी बाहर आई है। उनके पुत्र ने जानकारी दी कि इन्दिरा गांधी और गया प्रसाद चाहते थे कि प्रियंका गांधी राजनीति में आएं और लोगों के भरोसे के अनुरुप काम करें।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि गया प्रसाद रायबरेली में ही रहते थे और 2010 में उनकी मृत्यु हो गई। राय बरेली में सोनिया गांधी का सारा काम गया प्रसाद का परिवार ही देखता है। प्रसाद के बेटे ने एक अंग्रेजी अखबार में दिये इंटरव्यू में कहा कि प्रसाद चाहते थे कि राहुल को कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष बनाया जाए और प्रियंका गांधी को पार्टी की राजनीति संभालने का मौका दिया जाये।

गया प्रसाद का परिवार पिछले 40 सालों से एक प्रथा को निभा रहा है। उनके यहां हवन और गणेश आरती होती है जब गांधी परिवार से कोई चुनाव लड़ता है। आज भी जब सोनिया गांधी पर्चा भरने जाती हैं तो गया प्रसाद के घर में पूजा पाठ का सिलसिला चला आ रहा है। गया प्रसाद के परिवार का मानना है कि राहुल गांधी को राजनीति के मामले में प्रियंका गांधी की सलाह लेनी चाहिये। उन्होंने कहा कि सोनिया गांधी के अस्वस्थ्य होने के बाद रायबरेली की सीट से प्रियंका गांधी को ही उतरना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *