राष्ट्रीय

पीएम मोदी की आखिरी चेतावनी… सुधर जाओ नहीं तो अंजाम बुरा होगा !

नई दिल्ली(रिपोर्ट अड्डा): देश की सियासत में बदलाव का जो दौर 2014 से शुरू हुआ था वो जारी है। सियासत बदल गई, नौकरशाही भी बदल गई है अब विकास की बातें होती है। सरकारी योजनाओं को जमीन पर उतारने की दिशा में तेजी से काम किया जा रहा है। लेकिन तमाम बदलावों के बाद भी एक चीज नहीं बदली है। वो है विपक्ष की राजनीति। जी हां केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद से जिस तरह से कांग्रेस विपक्ष के नाम पर अराजकता फैलाता रहा है उस से पीएम मोदी काफी परेशान हैं।

विपक्ष की परेशानी को खत्म करने के लिए अब प्रधानमंत्री मोदी ने नई रणनीति तैयार की है। देश में अगले राष्ट्रपति के चुनाव को लेकर चर्चाएं चल रही हैं। इसी मुद्दे पर विपक्ष फिर से एकजुट होने की कोशिश कर रहा है। बीजेपी के पास अपनी पसंद का राष्ट्रपति चुनने का मौका है। यही कारण है कि राष्ट्रपति पद के चुनाव को जरिया बनाकर पीएम मोदी विपक्ष को संदेश देना चाहते हैं। वो चाहते हैं कि विपक्ष ये समझ जाए राजनीति करने के लिए विचारधारा का होना बहुत जरूरी है।

पीएम मोदी ने कई मंचों से विपक्ष को समझाने की कोशिश की है। संसद के कितने ही सत्र विपक्ष की जिद के कारण बर्बाद हो गए हैं। देश की जनता भी ये बात समझ रही है। यही कारण है कि विपक्ष जितना मोदी पर हमला करता है जनता उतना ही मोदी के साथ आ रही है। ये बात प्रधानमंत्री मोदी भी अच्छी तरह से समझते हैं। वो सीधे जनता से संवाद करते हैं। कुल मिलाकर कहा जा रहा है कि अब विपक्ष की राजनीति को भोथरा करने के लिए बीजेपी ने नया प्लान तैयार किया है।

जिस तेजी से विपक्ष एकजुट होने की कोशिश कर रहा है उतनी ही तेजी से मोदी भी अपना कद और एनडीए का कुनबा बढ़ा रहे हैं। हर चुनावी जीत के बाद मोदी का कद बढ़ रहा है। तो इसी के साथ दूसरे दलों के नेताओं को भी लग रहा है कि आज केवल बीजेपी ही ऐसी पार्टी है जिसके साथ जनता खड़ी है। दिल्ली में कांग्रेस के नेताओं में भगदड़ शुरू हो गई है। देश के दूसरे हिस्सो में भी क्षेत्रीय दलों के नेता बीजेपी में शामिल हो रहे हैं। कुल मिलाकर अब विपक्ष के नाम पर कुछ बड़े नेता ही रह गए हैं जो मोदी विरोध के कारण अपनी सियासी साख लगातार खो रहे हैं।

Read Also : पीएम मोदी के सामने सबसे बड़ी चुनौती सामने खड़ा हो गया अपना ही पुराना साथी !

Advertisement

रिलेटेड कंटेंट के लिए नीचे स्क्रॉल करे..

Loading...
Advertisement

Leave a Comment