चर्चित राष्ट्रीय

पीएम मोदी के सपने को सच करते ये 8 गांव, इन गांव के आगे मेट्रो सिटी भी फेल

Modi's dream to come true, these 8 villages

नई दिल्ली(रिपोर्ट अड्डा): हमारा देश तरक्की की दिशा में आगे बढ़ रहा। शहर ही नहीं गांव भी विकास कर रहे। आज हम आपको उन गांवो के बारे में बता रहे जो मॉडर्न होने के साथ-साथ देश के लिए मिसाल कायम कर रहे-

1. देश का पहला कैशलेस गांव धसई(पुणे)- शहरों में जहाँ लाईनों में लगे लोग अपने-अपने तरीके से नोटबन्दी के बारे में बातें कर रहे हैं, वहीं पुणे के धसई गांव ने कैशलेस सिस्टम को पूरी तरह से अपना लिया हैं। यहाँ आप 5 रूपये के चाय ले लिए भी कार्ड पेमेंट कर सकते हैं। गांव के दुकानदार स्वाइप मशीने इस्तेमाल करते हैं। बाल कटवाने तक के लिये आप कार्ड पेमेंट कर सकते हैं।

2. देश का पहला डिजिटल गांव अकोदरा( गुजरात)- 2015 में अकोदरा देश का पहला डिजिटल गांव बना। यहाँ पेमेंट ऑप्शन मोबाईल बैंकिंग हैं। ICICI बैंक और गुजरात सरकार ने मिलकर अकोदरा गांव में सभी जरुरी सुविधाओं को जैसे मेडिकल, फाइनेंशियल आदि को डिजिटल कर दिया हैं।

3. सुबह-सुबह लोटा लेकर जाने वालों को Good morning कहने वाला गांव, बेक्कीनाकेरी( कर्नाटक)- इस गांव के लोगों ने खुले में शौच जाने वालों को स्वच्छता के बारे में समझाने का एक नया तरीका खोज निकाला हैं। ग्रामपंचायत और आंगनबाड़ी के कार्यकर्त्ता सुबह-सुबह लोटा लेकर जाने वाले लोगों को good morning बोलते हैं और वापसी में उन्हें समझाते हैं की शौचालय बनवाना कितना जरुरी हैं।

4. लड़की पैदा होने पर खुशी मनाने वाला गांव छप्पर( हरियाणा)- इस गांव की सरपंच नीलम ने इस गांव की सूरत और तकदीर दोनों बदल दी। अब यहाँ की महिलाएँ घूँघट से आगे निकल चुकी हैं। अपनी बात सबके सामने रख सकती हैं। आज यहां लड़कियों के पैदा होने पर खुशियाँ मनाई जाती हैं। आज यहाँ 1000 में 887 लड़कियों का औसत हैं।

5. Wifi सीसीटीवी के साथ देश का सबसे हाईटेक गांव, पुंसारी(गुजरात)- 23 साल की उम्र में इस गांव के सरपंच बने नॉर्थ गुजरात university से पढ़े हिमांशू ने इस गांव को देश का पहला हाईटेक गांव बना कर इस गांव की सूरत ही बदल डाली। यहां air conditioner school, solar power plant, पानी साफ करने का प्लांट, सीसीटीवी कैमरा और सफाई सब कुछ हैं यहाँ।

6. सबसे पढ़ा लिखा गांव, धोरा माफी( उत्तर प्रदेश)- यह एशिया का सबसे पढ़ा लिखा गांव हैं उत्तर प्रदेश का “धोरा माफी” गांव। पहले यह खिताब केरल के पोथानिक्कड़ गांव के पास था। धोरा माफी में 24 घण्टे बिजली और पानी की सप्लाई हैं। यहाँ का लिट्रेसी रेट 75% हैं। इंग्लिश मीडियम स्कूल और कॉलेज हैं।

7. सोलर पावर पर काम करने वाला गांव, धारनई( बिहार)- 2400 की आबादी वाला ये गांव बोध गया के पास जहानाबाद जिले में हैं। जबसे यहाँ ग्रीनपीस एनजीओ की मदद से सोलर पावर ग्रिड लगवाई गई हैं यहां 24 घण्टे बिजली की सप्लाई हैं। यह देश का पहला पूरी तरह से सोलर पावर पर काम करने वाला गांव हैं।

8. देश का सबसे साफ गांव,Mawlynnong(मेघालय)- मेघालय का ये गांव 2003 में भारत का ही नहीं एशिया के सबसे साफ गांव का खिताब जीत चुका हैं। यह शिलॉन्ग से 100km की दुरी पर हैं। यहाँ लोग कचरा फैलाने में नहीं साफ करने में यकीन करते हैं।

Advertisement

रिलेटेड कंटेंट के लिए नीचे स्क्रॉल करे..

Loading...
Advertisement

Leave a Comment