चर्चित राज्य

नीतीश कुमार ने दिया इस्तीफा, बीजेपी के साथ बनाएंगे सरकार, तेजस्वी जाएंगे जेल !

nitish lalu

नई दिल्ली(रिपोर्ट अड्डा): नीतीश कुमार ने बिहार की सियासत में धमाका कर दिया है। उन्होंने सीएम पद से इस्तीफा दे दिया है। इसी के साथ महागठबंधन भी टूट गया है। लालू यादव के परिवार की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं। बिहार के सीएम पद से इस्तीफा देने के बाद नीतीश कुमार ने मीडिया को संबोधित किया। राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी को इस्तीफा सौंपने के बाद उन्होंने जो बाते कहीं वो उनका दर्द बयान कर रहा है। नीतीश ने साफ कहा कि तेजस्वी यादव पर आरोप लगने के बाद जिस तरह से हालात बन रहे थे उस में सरकार चलाना मुश्किल हो रहा था। नीतीश ने कहा कि उन्होंने अंतरात्मा की आवाज पर इस्तीफा दिया। साथ ही नीतीश ने कहा कि उन्होंने इस्तीफा देने से पहले लालू यादव और कांग्रेस को सूचित कर दिया था। इसी के साथ नीतीश ने बिहार के हित में बीजेपी के समर्थन को लेकर भी संकेत दिए हैं।

नीतीश कुमार ने कहा कि तेजस्वी के खिलाफ जो आरोप लगे थे उसके बाद उनके लिए काम करना मुश्किल हो गया था। जनता के मन में गलत धारणा बनती जा रही थी। उन्होंने कहा कि तेजस्वी से इस्तीफा नहीं मांगा गया था। वो किसी पर आरोप नहीं लगा रहे हैं। उन्होंने गठबंधन धर्म पूरी तरफ से निभाया, लेकिन सहयोगी दलों ने उनकी बात नहीं समझी। नीतीश ने कहा कि उन पर लगातार हमला किया जा रहा था। नोटबंदी से लेकर राष्ट्रपति चुनाव में रामनाथ कोविंद के समर्थन को लेकर उन पर हमला किया गया। nitish lalu 2लगातार उनको निशाना बनाया जा रहा था। वो अपने मन से फैसला ले नहीं पा रहे थे। काम काज प्रभावित हो रहा था। नीतीश ने कहा कि जब उन्होंने नोटबंदी का समर्थन किया था उसके बाद से ही उन पर हमला किया जा रहा था। मैंने नोटबंदी के बाद बेनामी संपत्तियों के खिलाफ एक्शन लेने की मांग की थी।

नीतीश कुमार ने कहा कि कफन में जेब नहीं होती है। इतनी संपत्ति खड़ी करने का क्या फायदा। गैरकानूनी तरीके से संपत्ति कमाने को लेकर नीतीश ने लालू पर हमला किया था। नीतीश ने कहा कि दुनिया में जरूरत की पूरी हो सकती है लेकिन लालच की पूर्ति नहीं हो सकती है। नीतीश ने कहा कि अगर तेजस्वी इस्तीफा दे देते तो वो और ऊंचे हो जाते। उनको समय दिया गया लेकिन लग रहा था कि जैसे वो कुछ बोलने की स्थिति में नहीं है। जब काम करना मुश्किल हो गया तो हमने इस्तीफा दे दिया। इस्तीफा देने के बाद आगे क्या इस सवाल के जवाब में नीतीश कुमार ने कहा कि वो आगे की रणनीति बाद में तय करेंगे। बीजेपी के समर्थन से सरकार बनाने के सवाल पर नीतीश ने कहा कि बिहार के हित के लिए वो इस पर विचार करेंगे।

बता दें कि बीजेपी ने पहले ही कहा है कि वो नीतीश को बाहर से समर्थन देने के लिए तैयार है। फिलहाल जो स्थिति है उस में बिहार में लालू के पास सबसे ज्यादा 80 विधायक हैं। जेडीयू के पास 71, बीजेपी के पास 53 और कांग्रेस के पास 27 सीटें हैं। बीजेपी के सात मिलकर नीतीश आराम से सरकार बना सकते हैं। nitish lalu 3नीतीश के 71 और एनडीए के 58 विधायक मिलकर बहुमत के आंकड़े को पार कर रहे हैं। जेडीयू नेता केसी त्यागी ने साफ कर दिया है कि अब लालू यादव उनके लिए अछूत हो गए हैं। लाालू ने नीतीश पर हत्या के आरोप का मामला उठा कर ओछी राजनीति का परिचय दिया है। वहीं ये भी कहा जा रहा है कि बीजेपी के साथ सरकार बनाने के बाद तेजस्वी यादव और लालू यादव की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं। भ्रष्टाचार के आरोप में तेजस्वी जेल तक जा सकते हैं।

Advertisement

रिलेटेड कंटेंट के लिए नीचे स्क्रॉल करे..

Loading...
Advertisement

Leave a Comment