60 सेकंड में पता चल जाएगा कि दूध में कितनी मिलावट की गई है, जानिए कैसे ?

milk

नई दिल्ली(रिपोर्ट अड्डा): दूध की जरूरत किसे नहीं होती है। हर कोई चाहता है कि वो शुद्ध दूध हासिल करे, लेकिन आज के समय में बिना मिलावट का दूध हासिल करना जैसे भूसे के ढेर से सुई खोजना है। दूधवाले खुल कर कहते हैं कि वो बिना पानी के दूध दे ही नहीं सकते हैं. बल्कि कई दूधवाले तो आपके सामने ही दूध में पानी मिलाते हैं। एक सीमा तक तो ये बर्दाश्त किया जा सकता है लेकिन जब दूध पानी की तरह बनाकर दिया जाता है तो गुस्सा आता है।

अब इसी दिशा में एक नया काम हुआ है। जी हां अब आप एक मिनट के अंदर पता लगा सकते हैं कि दूध में कितना पानी मिलाया गया है। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने एक ऐसी डिवाइस को जारी किया जिसकी मदद से बड़ी आसानी से दूध में मिलावट के बारे में पता लगाया जा सकता है। ये डिवाइस बहुत काम की हैष इसकी अहमियत इसी बात से समझी जा सकती है कि खुद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने इसे जारी किया है। ये काफई महत्वपूर्ण होने के साथ साथ सस्ती भी है। हाथ में पकड़ी जाने वाली इस डिवाइस को इस्तेमाल करना बेहद आसान है।

इस डिवाइस के लॉन्च होने के मौके पर केंद्रीय साइंस ऐंड टेक्नॉलजी मंत्री हर्षवर्धन भी मौजूद थे।  इस डिवाइस को पब्लिक सेक्टर की रिसर्च बॉडी कॉन्सिल ऑफ साइंटिफिक ऐंड इंडस्ट्रियल रिसर्च ने विकसित किया है। इस डिवाइस का नाम शीर टेस्टर रखा गया है। इस छोटी सी डिवाइस के जरिए दूध में यूरिया, नमक, डिटर्जेंट, साबुन, सोडा, बोरिक ऐसिड और यहां तक की हाईड्रोजन पेरॉक्साइड की मिलावट का भी पता लगाया जा सकता है। केवल एक बटन दबाने से सारी मिलावट की पोल खुल जाएगी। उस से भी खास बात ये है कि ये डिवाइस दूध में मिवाट रोकने के काम आ सकती है।

5 हजार रूपये में मिलने वाली ये डिवाइस 60 सेकंड में बता देगी कि दूध में क्या क्या मिलावट की गई है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने एक और गेम-चेजिंग टेक्नॉलजी वॉटरलेस क्रोम टैनिंग को भी लॉन्च किया। इसका इस्तेमाल जानवरों की खाल और चमड़ी को प्रोसेस करने में किया जाएगा। इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश भर के वैज्ञानिकों को संबोधित करते हुए कहा कि नई तकनीक और नए प्रॉडक्ट्स को बनाने के उत्साह में बेसिक साइंस रिसर्च से अपना ध्यान न भटकाएं क्योंकि ये बेहद महत्वपूर्ण है। जिन 2 तकनीकी उत्पादों को जारी किया गया उसे बनाने में CSIR के प्रयासों की कोविंद ने सराहना करते हुए कहा कि ये बताते हुए बेहद खुशी हो रही है कि CSIR द्वारा विकसित की गई इन 2 उत्पादों से समाज को बहुत फायदा होगा और इसे देश को समर्पित किया गया है।