प्रेमी की लाश के पास मंगेतर संग बनाये संबंध, फिर लाश के तीन सौ टुकड़े कर किया ये हाल

सुबह-सुबह साढे सात बजे ही मंगेतर मैथ्यू मारिया के फ्लैट पर पहुंच गया, उसने मारिया के बेडरुम में नीरज को बिना कपड़ों के देख लिया, जिसे देख वो आगबबूला हो गया।

New Delhi, Oct 26 : यूं तो आये दिन क्राइम की ऐसी-ऐसी खबरें आती रहती है, जिसे सुनकर कोई भी सन्न रह जाता है, कई केसों में अपराधी ने वहशीपन की सारी हदें पार कर दी, ऐसी ही एक मामला है, जिसे सुनकर आप के भी रोंगटे खड़ी हो सकती है, जी हां, हम बात कर रहे हैं, चर्चित नीरज ग्रोवर मर्डर केस की, जिसमें अपराधी ने नीरज की हत्या के बाद उसकी लाश के तीन सौ टुकड़े किये और जंगल में ले जाकर उसे आग लगा दिया। आपको बता दें कि नीरज ग्रोवर एक प्रोडक्शन हाउस में बतौर मीडिया एग्जीक्यूटिव तैनात थे, उनकी दोस्त मारिया सुसारीज कन्नड़ फिल्मों में एक्ट्रेस के तौर पर स्ट्रगल कर रही थी, नीरज उन्हें प्रोफेशनल लाइफ में सफल होने के लिये मदद कर रहे थे।

नीरज ग्रोवर की हत्या
6 मई 2007 को मारिया सुसारीज ने मुंबई के मलाड में नये अपार्टमेंट में शिफ्ट हो रही थी, उसे शिफ्ट करने के लिये किसी के मदद की जरुरत थी, सो उसने नीरज को फोन कर बुलाया, उस रात नीरज उसी फ्लैट में रुका, अगले दिन 7 मई को मारिया का मंगेतर मैथ्यू जेरोम अचानक से फ्लैट पर पहुंच गया, वहां नीरज को बेडरुम में देख वो आगबबूला हो गया, उसने किचन से चाकू लेकर नीरज पर हमला कर दिया। मैथ्यू ने नीरज पर चाकू से कई वार किये, जिसमें उसकी मौत हो गई।

हत्या के बाद लाश के पास संबंध बनाये
इतना ही नहीं नीरज की हत्या के बाद मारिया और मैथ्यू ने उसकी लाश के पास ही दो बार शारीरिक संबंध बनाये, फिर मारिया बाजार गई और हाईपर सिटी मॉल से तेज धार वाली चाकू और तीन बैग खरीदकर लाये, दोनों ने मिल कर नीरज की लाश के तीन सौ टुकड़े किये, फिर उसे बैग में भरा, और जंगल ले जाकर आग लगा दी, ताकि किसी को भी कुछ भी पता नहीं चल सके।

मारिया ने किया खुलासा
इस दर्दनाक हत्याकांड को लेकर मीडिया में खूब चर्चा हुई थी, पहले तो मामला उलझा हुआ लग रहा था, लेकिन जब पुलिस ने मामले के तार जोड़ने शुरु किये तो पता चला कि मैथ्यू ने नीरज की हत्या की है। कोर्ट ने मैथ्यू को गैर-इरादतन हत्या का दोषी पाया, जबकि नीरज की प्रेमिका मारिया को सबूत मिटाने के आरोप में जेल हुई। मारिया ने पुलिस पूछताछ में कई हैरान करने वाले खुलासे किये, उसने पुलिस को पूरी बात शुरु से बताई।

नीरज को मदद के लिये बुलाया
मारिया ने फ्लैट शिफ्ट करने में मदद के लिये नीरज को 6 मई 2008 को रात 9.30 बजे कॉल किया, रात दस बजे नीरज फ्लैट पर पहुंच गया, करीब 10.30 बजे मारिया को उसके मंगेतर मैथ्यू ने कॉल किया, तो उसे नीरज की आवाज सुनाई दी, उसने मारिया से इस बारे में पूछा, तो मारिया ने उसे पूरी बात बताई और कहा वो कुछ देर में चला जाएगा। उसके बाद रात 11.30 बजे मैथ्यू ने दुबारा मारिया को क़ल किया, और कहा नीरज को अभी घर से बाहर निकाल दे, लेकिन मारिया ने उसकी बातों को अनसुना करते हुए अपना फोन बंद कर लिया और आराम से नीरज की बांहों में सो गई।

मैथ्यू ने कर दी हत्या
अगले दिन सुबह-सुबह साढे सात बजे ही मैथ्यू मारिया के फ्लैट पर पहुंच गया, उसने मारिया के बेडरुम में नीरज को बिना कपड़ों के देख लिया, जिसे देख वो आगबबूला हो गया, उसने तुरंत किचन से चाकू लाया और नीरज पर हमला कर दिया। उसने नीरज पर इतने वार किये, जिससे उसकी जान चली गई, फिर साढे आठ बजे मैथ्यू और मारिया ने शारीरिक संबंध बनाये, उसके बाद 9 बजे दोनों सोचने लगे कि कैसे उस लाश को ठिकाने लगाया जाए, मारिया ने मॉल से बड़ा सा चाकू और तीन थैले खरीद लाई।

दोस्त की कार से लाश को लगाया ठिकाने
मारिया अपनी दोस्त से कार भी मांग लाई, ताकि लाश को आसानी से ठिकाने लगाया जा सके, शाम 6 बजे दोनों ने मिलकर लाश के तीन सौ टुकड़े किये, फिर उन्हें बैग में भरकर कार से जंगल की ओर निकल पड़े, शाम साढे सात बजे लाश को जलाने के बाद वो फ्लैट पर लौटे, रात 9.30 बजे दोनों ने फिर से शारीरिक संबंध बनाये और सो गये, अगले दिन मैथ्यू दोपहर साढे 12 बजे की फ्लाइट से कोच्चि चला गया।