Narendra Modi UP Election

नई दिल्ली (ब्यूरो, रिपोर्ट अड्डा) : स्वतंत्रता दिवस के पर्व पर पीएम मोदी ने एक बार फिर लाल किले की प्राचीर से एतिहासिक भाषण दिया था। आलम ये है कि विरोधियों को इस उबाऊ बोलने के अलावा कुछ मिला नहीं। न सिर्फ हिंदुस्तान में बल्कि सरहद के उस पार पाकिस्तान में भी मोदी मोदी का नाम जपा जा रहा है।

बलोचिस्तान पर बोलकर पीएम मोदी ने दुनिया का ध्यान एक तरफ आकर्षित किया। जिसकी वजह से अब बात कश्मीर की नहीं बल्कि बलोचिस्तान की हो रही है। भारत पर इसका व्यापक असर पड़ा। राजनीति में भी मोदी की कूटनीति और दूरदर्शिता का लोहा माना जा रहा है। इससे एक बार फिर ब्रांड मोदी उभर के सामने आया है।

लालकिले की प्राचीर से पीएम मोदी ने कई आयामों को देखते हुए अपने भाषण में बिंदुओं को जोड़ा था। दिल्ली और बिहार में ब्रांड मोदी का फ्लॉप होना उन्हे परेशान कर रहा था। लिहाजा एक बार देश भक्ति की अलख जलाकर वो अपनी लहर को तैयार कर रहे है। इस वक्त हर तरफ पीएम मोदी की ही चर्चा हो रही है जो साबित कर रही है कि यूपी चुनाव से पहले एक बार फिर से मोदी लहर देखने को मिल सकती है।

चुनाव के करीब 6 महीने पहले इसे पीएम मोदी का ब्रह्मास्त्र माना जा रहा है। क्योकि यही से तैयार माहौल पर आगे की रणनीति तय होगी। मोदी ने एक तरफ से समर्थन दे दिया है। अब इस बयान को जिंदा रखने की जिम्मेदारी अमित शाह और टीम की होगी।

जल्दी ही देखने को मिलेगा की शाह और उनकी इस बयान के मायने अपनी रैलियों में बताएंगे। इसका सीधा फायदा यूपी चुनावों में मिलेगा। यूपी में चुनावी चेहरा तलाशने में नुकसान ज्यादा है इसलिए उम्मीद की जा रही है कि उत्तर प्रदेश का चुनाव मोदी नाम पर ही लड़ा जाएगा। नफा नुकसान तो आने वाले वक्त में पता चल ही जाएगा लेकिन ये तय है कि लालकिले से बोले पीएम मोदी के बयान से चुनाव की दिलचस्पी जरूर बढ़ेगी

NEXT :  पीएम मोदी ने पाकिस्तान को पीछे धकेल दिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *