अजब गजब धार्मिक

मंदिरों में महिलाएं क्यों नहीं तोड़ती है नारियल, जानिए इसके पीछे की मान्यता

 mandiro me mahilaye kyu nhi todti coconut

नई दिल्ली (रिपोर्ट अड्डा): नारियल के बिना पूजा अधूरी मानी जाती हैं। नारियल को श्री फल मन जाता हैं।

किसी भी देवी देवता की पूजा हो नारियल का होना जरूरी हैं। ऐसा माना जाता हैं की नारियल चढ़ाने से धन सम्बन्धित समस्या दूर होती हैं।लेकिन, क्या आपने कभी ध्यान दिया हैं की नारियल हमेशा पुरुष ही देवी-देवता पर चढ़ा कर उन्हें फोड़ते हैं महिलायें नहीं। इसके पीछे एक वजह हैं- पौराणिक कथा के अनुसार ब्रह्मऋषि विश्वामित्र ने विश्व का निर्माण करने से पहले नारियल का निर्माण किया। जिसे मानव का प्रतिरूप माना गया था। शास्त्रों के अनुसार नारियल बीज का रूप हैं। इसलिये इसे उत्पादन अर्थात प्रजनन का कारक माना गया हैं।

नारियल को प्रजनन से जोड़ कर देखा गया हैं। स्त्रियाँ बीज रूप से ही शिशु को जन्म देती हैं। इसलिए स्त्री के लिये श्री फल नारियल को फोड़ना अशुभ माना गया हैं। पुरुष हीं इसे देवताओं को चढ़ाने के बाद फोड़ते हैं।

हालांकि इस बात का कहीं उल्लेख नहीं हैं। ना ही देवी देवता के निर्देश के रूप में ही इसका वर्णन हैं। यह हमारी सामाजिक मान्यतओं और विश्वास के चलते बरसों से हमारी रीति-रिवाज का हिस्सा हैं। जिसे हम सदियों से निभाते आ रहे।

Read Also : इस मंदिर में भगवान को चढ़ाई जाती है चप्पलें

Advertisement

रिलेटेड कंटेंट के लिए नीचे स्क्रॉल करे..

Loading...
Advertisement

Leave a Comment