बिज़नेस राष्ट्रीय

जानिए, GST का फैसला एतिहासिक क्यों हैं ?

Know why GST is historic

नई दिल्ली/रिपोर्ट अड्डा: गुड्स एंड सर्विस टैक्स(GST) बिल लोकसभा में पास होने के बाद आज राज्य सभा में भी पास हो गया। इस बिल के पारित होने के बाद देश की टैक्स सम्बन्धी व्यवस्था में व्यापक बदलाव होंगे। GST लागू होंने के बाद केंद्र और राज्यों के द्वारा लगाये जाने वाले 20 से ज्यादा अप्रत्यक्ष कर समाप्त हो जायेगे। उन की जगह केवल एक टैक्स लगेगा। लेकिन, वह एक टैक्स कितना होगा यह अभी निश्चित नहीं है।

इस बिल पास हो जाने के बाद अब भारत में गुड्स और सर्विसेज के लिए अदा किये जाने वाले टैक्स दरों की भिन्नता खत्म हो जायेगी। अब हर राज्य में अलग-अलग लगने वाले टैक्स खत्म हो जायेगे। वस्तु जहाँ निर्मित होगी वहीं उसका टैक्स वसूल कर उसके हिसाब से उसका रेट तय किया जायेगा।

GST के लागू होने के बाद केवल 3 तरह का टैक्स वसूला जायेगा। जिनमें CGST केंद्र सरकार वसूल करेगी। SGST राज्य सरकार वसूल करेगी और IGST जो 2 राज्यों के बीच होने वाले कारोबार से वसूला जायेगा। इसे वसूल तो केंद्र सरकार करेगी। फिर इसे दोनों राज्यों के बीच बराबर अनुपात में बाँट देगी।

सरकार ने आश्वस्त किया कि नई कर प्रणाली में उपभोक्ताओं और राज्यों के हितों को पूरी तरह से सुरक्षित रखा जाएगा और कृषि पर टैक्स नहीं लगाया जाएगा। आशा की जा रही है कि GST बिल पास होने के बाद शेयर बाजार की चमक बढ़ेगी।

राज्यसभा ने आज केंद्रीय माल एवं सेवा कर विधेयक 2017 को चर्चा के बाद लोकसभा को ध्वनिमत से लौटा दिया।

Read Also : ऑपरेशन ब्लैक मनी पर मोदी सरकार का बड़ा कदम, अधिकारियों की संपत्ति जानकर दंग रह गए सब

Leave a Comment