अजब गजब धार्मिक

हाथों में बने इन निशानों और लकीरों का मतलब समझिए

know about in hand these marks and ridges

नई दिल्ली (रिपोर्ट अड्डा): हथेली की लकीरें हमेशा अपना स्थान बदलते रहती हैं। कभी-कभी तो हथेली की बदलती रेखाएं हाथों में कुछ विशेष निशान बना देती हैं। हस्तरेखा ज्योतिष के अनुसार हाथों के ये विशेष निशान हमारे जीवन पर भी असर डालती हैं। कुछ निशान हमारे लिये शुभ हैं और कुछ निशान अशुभ। आइये जानिए हथेली में बने निशानों के शुभ अशुभ फल के बारे में:-

1) मंदिर :- यदि किसी की हथेली में लकीरों से मन्दिर का निशान बन जाय तो यह बहुत शुभ हैं। वह व्यक्ति सर्वश्रेष्ठ पद प्राप्त करेगा। उसकी जिंदगी ऐशो-कारण में गुजरेगी।
2) त्रिशूल :- ऐसे निशान सौभाग्यशाली लोगो की हाथों में होते हैं। इस निशान वाले व्यक्ति को जीवन में सारे सुख- सुविधाएं और मान और सम्मान मिलता हैं।

3) अंडाकार:- यह निशान शुभ फल दायक नहीं होता। यह निशान जिस पर्वत पर या रेखा पर होता हैं। उसका शुभ असर कम करता हैं। यह निशान अच्छा नहीं माना जा सकता।

4) रथ:- इस रथ का निशान राजयोग का प्रतीक हैं। आमतौर पर यह निशान राजाओं के हाथ में बनता हैं। जिस व्यक्ति के हाथ में यह निशान बनता हैं वह राजा की तरह जिंदगी गुजरता हैं।

Read Also : मंदिरों में महिलाएं क्यों नहीं तोड़ती है नारियल, जानिए इसके पीछे की मान्यता

5) तलवार:- यह निशान अशुभ फलदायक होता हैं। यह निशान जिसके हाथ में भी बनती है उसका पूरा जीवन संघर्ष में व्यतीत होता हैं।

6) स्वस्तिक:- स्वस्तिक का चिन्ह पूजनीय और पवित्र होता हैं। जिनके हाथ में स्वस्तिक का चिन्ह बनता हैं वो बहुत धार्मिक होते हैं। धार्मिक कार्यों में अग्रसर होते हैं। समाज में मान-सम्मान प्राप्त करता हैं।

7) वृक्ष:- यह अत्यंत शुभ फलदायक होता हैं। यह निशान जिस पर्वत या रेखा पर होता हैं। उसके शुभ असर को बढ़ाता हैं।

8) हाथी:- जिसके हाथों में भी गज का निशान बनता हैं। वह गणेश जी की कृपा से सभी राजकीय सुख और सुविधाओं का भोग करता हैं।

9) झंडा:- हथेली में निशान बनना मतलब हर जगह जीत प्राप्त करना। ऐसे निशान वाले व्यक्ति कोर्ट कचहरी और विवादों में सफल होते हैं।

10) मछली:- यह निशान अत्यंत चमत्कारिक माना जाता हैं। जिनके हाथों में यह निशान बनता हैं उनके जीवन में अनेक चमत्कारिक घटनाएं घटती हैं।

Advertisement

रिलेटेड कंटेंट के लिए नीचे स्क्रॉल करे..

Loading...
Advertisement

Leave a Comment