चर्चित राज्य राष्ट्रीय

पीएम मोदी के इस कदम से पंजाब में केजरीवाल की सियासत डूब सकती है !

Narendra modi

नई दिल्ली(रिपोर्ट अड्डा): प्रधानमंत्री मोदी “हार्ट ऑफ एशिया कॉन्फ्रेंस” में भाग लेने अमृतसर पहुँचे। प्रधानमंत्री मोदी ने शनिवार को अमृतसर स्वर्ण मंदिर में सेवा की। उन्होनें लंगर में बैठे लोगों को भोजन परोसा।

उनके साथ अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी भी कॉन्फ्रेंस में भाग लेने अमृतसर पहुँचे। उन्होनें स्वर्ण मंदिर में मत्था टेका। उनके साथ पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल, उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल और केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर भी मौजूद थी।
मोदी ने संत रविदास के दर पर मत्था टेका और उनके अनुयायियों के साथ लंगर चखकर सामाजिक समरसता का संदेश दिया। मोदी ने मंदिर में प्रार्थना की और मंदिर के पुजारी से बातचीत करने के बाद लंगर में लोगो को भोजन परोसा। और खुद भी रविदास के अनुयायियों के साथ लंगर खाया।

उनका यह कार्यक्रम राजनीतिक दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा। राजनीतिक विश्लेषक इसे पंजाब और उत्तरप्रदेश के आगामी चुनाव से जोड़कर देख रहे। संत रविदास दलित समाज से थे इसलिये विश्लेषक इसे दलित समाज पर डोरे डालने के रूप में देख रहे। पंजाब का कुछ वर्ग मोदी के स्वर्ण मंदिर दौरे को पंजाब में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पूर्व सिख समुदाय को लुभाने की कोशिश के रूप में देख रहे हैं।

मोदी के इस दौरे से दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल के अंधाधुंध पंजाबी दौरे और मार्च 2017 में होने वाले चुनाव के प्रचार पर पानी फिरता दिख रहा। प्रधानमंत्री मोदी द्वारा इनदिनों लगातार किये गये कार्यों जैसे- सर्जिकल स्ट्राइक , नोटबन्दी और सुप्रिम कोर्ट के राष्ट्र गान से सबंधित फैसले के बाद जनमानस में एक सकारात्मक संदेश गया हैं। ये तीनों ही काम देश और देशभक्ति से जुड़े हैं। नोटबन्दी से हो रही दिक्कतों के बावजूद भी देश की जनता मोदी के फैसले के समर्थन में खड़ी हैं। लोगों को भरोसा हैं की ये फैसला उनके और देश के हित में हैं।

ऐसे माहौल में मोदी का संत रविदास के दरबार में जाना और उनके अनुयायियों की सेवा करना केजरीवाल के लिए खतरे की घंटी हैं। ज्ञात हैं की आम आदमी पार्टी के पास पंजाब चुनाव में कोई लोकप्रिय सिख चेहरा भी नहीं हैं।
ऐसे में मोदी का पंजाबी साफा पहन पंजाब की यात्रा कहीं पंजाब चुनाव के केजरीवाल के पक्ष में बनते समीकरण को बदल ना डाले। ऐसे कयास लगाये जा रहे।

Advertisement

रिलेटेड कंटेंट के लिए नीचे स्क्रॉल करे..

Loading...
Advertisement

Leave a Comment