चर्चित राष्ट्रीय

ये है मुजफ्फरनगर के कलिंग-उत्कल रेल हादसे की वजह, मोदी जी अब तो जाग जाओ !

कलिंग-उत्कल रेल हादसा 2

नई दिल्ली(रिपोर्ट अड्डा): उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के पास खतौली में कलिंग-उत्कल एक्सप्रेस रेल हादसे ने पूरे देश को झकझोर के रख दिया है। 23 मुसाफिरों की जिंदगी लील लेने वाले इस हादसे में सैकड़ों लोग घायल भी हुए हैं। मृतकों की संख्या बढ़ भी सकती है। इस रेल हादसे के फौरन बाद साजिश की आशंका जताई गई थी। आतंकी साजिश के एंगल से भी जांच की गई। लेकिन अब ये साफ हो गया है कि ये हादसा मानवीय चूक के कारण हुआ है। इसमें कोई साजिश नहीं है। हम आपको बताएंगे कि उत्कल-कलिंग रेल हादसे के पीछे की असली वजह क्या है। और क्यों पीएम मोदी को अब कड़ा कदम उठाना चाहिए।

संवाद की कमी से हादसा

कलिंग-उत्कल रेल हादसे के पीछे की असली वजह संवाद की कमी है। जिस तरह पर ये हादसा हुआ वहां पर रेट की पटरी टूटी हुई थी। अब ये साफ हो रहा है कि ये कोई साजिश नहीं थी. बल्कि रेलवे ट्रैक पर मरम्मत का काम चल रहा था। जिसके बारे में कलिंग-उत्कल ट्रेन के ड्राइवर को कोई सूचना ही नहीं थी। जब वे मरम्मत वाली जगह पर पहुंचा तो उसने इमरजेंसी ब्रेक मार दिए, जिसके कारण ट्रेन पटरी से उतर गई। यूपी सरकार के गृह विभाग के प्रधान सचिव अरविंद कुमार ने ये जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि मरम्मत के काम के बारे में सूचना देने में ढिलाई बरती गई।

रेलवे ट्रैक पर मरम्मत 

रेलवे ट्रैक पर रिपेयर हो रहा था इसकी जानकारी कलिंग-उत्कल के ड्राइवर को नहीं थी। उसने अचानक ब्रेक मारे जिसके कारण ये हादसा हुआ है। अरविंद कुमार ने कहा कि रिपेयर वर्क में टीम को रिपेयर वर्क के बारे में जानकारी देनी चाहिए थी। यूपी सरकार की ओर से इस बारे में जानकारी देने के बाद अब ये साफ हो गया है कि इस घटना के पीछे कोई आतंकी साजिश नहीं थी, बल्कि रेलवे के विभागों के बीच संवाद की कमी के चलते इतना बड़ा हादसा हो गया। इसी के साथ केंद्र सरकार पर सवाल खड़े होने लगे हैं। रेल मंत्रालय भी सवालों के घेरे में है। बताया जा रहा है कि मोदी ने सुरेश प्रभु को तलब भी किया है।

कब जागेगी सरकार ?

बहरहाल कलिंग-उत्कल रेल हादसे के बाद हेल्पलाइन नंबर जारी कर दिए गए हैं। रेलवे के हेल्पलाइन नंबरों 94106 09434, 0121-2604977, 94544 55183, 9410609434, 0121-2604977 पर आप संपर्क कर सकते हैं। घटना पर पीएम मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी दुख जताया है। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि वो निजी तौर पर पूरी घटना पर नजर बनाए हुए हैं। रेल मंत्रालय की तरफ से मुआवजे का एलान भी कर दिया गया है। मृतकों के परिजनों को साढ़े तीन लाख का मुआवजा दिया जाएगा।  गंभीर रूप से घायलों को 50 हजार रुपये और मामूली घायलों को 25 हजार रुपये की सहायता राशि दी जाएगी। वहीं उड़ीसा के सीएम नवीन पटनायक ने हादसे में मरने वाले राज्य के लोगों के परिजनों को 5 लाख रुपये का मुआवजा देने का एलान किया है।

Advertisement

रिलेटेड कंटेंट के लिए नीचे स्क्रॉल करे..

Loading...
Advertisement

Leave a Comment