बिहार एनडीए में अभी पेंच बाकी हैं, जीतन राम मांझी ने कुशवाहा को सुना दी खरी-खरी

जीतन राम मांझी ने कहा कि वो कभी हां और कभी ना वाली स्थिति में हैं, उनकी ये स्थिति बताती है कि वो मंत्री पद छोड़ना नहीं चाहते हैं और महागठबंधन में जाने का भय दिखाकर बीजेपी को ब्लैकमेल भी करना चाहते हैं।

New Delhi, Oct 30 : लोकसभा चुनाव में रालोसपा बीजेपी के साथ एनडीए में रहेगा या नहीं, ये अभी तक साफ नहीं हो पाया है, मंगलवार को पूरे दिन हाई वोल्टेज ड्रामा चलता रहा, शाम को रालोसपा प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा ने जो संकेत दिये उसके मुताबिक एनडीए में सम्मानजनक सीटें पाने के लिये उन्हें अभी भी वेट एंड वॉच की पॉलिसी पर काम कर रहे हैं, कुशवाहा के स्टैंड से साफ है, कि वो मोल भाव करने में लगे हैं। उनके इस स्टैंड को लेकर पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने कुशवाहा पर करारा प्रहार किया है, उन्होने कहा कि महागठबंधन का भय दिखाकर वो एनडीए को ब्लैकमेल करने की कोशिश कर रहे हैं।

बातचीत जारी है
इससे पहले रालोसपा प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा ने मंगलवार को प्रेस कांफ्रेस में कहा था कि सीट बंटवारे पर अभी अंतिम फैसला होना बाकी है, फिलहाल बातचीत का दौर जारी है। गया में जीतन राम मांझी ने का कि उपेन्द्र कुशवाहा दो नावों की सवारी कर रहे हैं और महागठबंधन का भय दिखाकर एनडीए को ब्लैकमेल करने की कोशिश कर रहे हैं, उनकी आम लोगों में छवि खराब हो रही है, हालांकि उन्होने ये भी कहा कि उऩकी पार्टी समेत पूरा महागठबंधन कुशवाहा का स्वागत करने के लिये अभी भी तैयार है।

मंत्री पद छोड़ना नहीं चाहते
पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने कहा कि वो कभी हां और कभी ना वाली स्थिति में हैं, उनकी ये स्थिति बताती है कि वो मंत्री पद छोड़ना नहीं चाहते हैं और महागठबंधन में जाने का भय दिखाकर बीजेपी को ब्लैकमेल भी करना चाहते हैं, लेकिन बीजेपी उनकी बातों में नहीं आ रही है।

तेजस्वी सीएम उम्मीदवार
जीतन राम मांझी ने आगे बोलते हुए कहा कि रालोसपा प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा बिहार के सीएम के रुप में खुद को प्रोजेक्ट करना चाहते हैं, लेकिन महागठबंधन में सीएम उम्मीदवार का पद खाली नहीं है, तेजस्वी यादव यहां एकमात्र सीएम पद के उम्मीदवार हैं, इसलिये भी उपेन्द्र कुशवाहा स्पष्ट निर्णय नहीं ले पा रहे हैं।

अगले दो-तीन दिन में फैसला
आपको बता दें कि हाल ही में अमित शाह ने दिल्ली में मीडिया से बात करते हुए कहा था कि बिहार एनडीए में सीटों के बंटवारे का मामला सुलझा लिया गया है, जदयू और बीजेपी बराबर सीटों पर चुनाव लड़ेगी, साथ ही लोजपा और रालोसपा को भी सम्मानजनक सीटें दी जाएगी, अमित शाह ने कहा था कि सीटों की संख्या का ऐलान अगले तीन-चार दिनों में कर दिया जाएगा, उस मौके पर रामविलास पासवान और उपेन्द्र कुशवाहा भी मौजूद रहेंगे।