अंतरराष्ट्रीय चर्चित

चीन ने पीएम मोदी का किया समर्थन, नवाज के गाल पर ड्रैगन का थप्पड़ !

पीएम मोदी, चीन, पाकिस्तान

नई दिल्ली(रिपोर्ट अड्डा): भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में तनाव देखने को मिल रहा है। इसका कारण पाकिस्तान की आतंकवाद को प्रायोजित करने की नीति रही है। जिसके तहत वो भारत में आतंकियों की घुसपैठ कराता है। पाकिस्तान को अभी तक चीन का खुला समर्थन मिल रहा था। लेकिन अस्ताना में कुछ ऐसा हुआ जिसने पाक को परेशान कर दिया है। भारत और चीन के रिश्तों में नया मोड़ आता दिख रहा है। वहीं पाकिस्तान के साथ चीन का रुख बदलता दिख रहा है। ये दोनों ही संकेत अस्ताना में SCO के सम्मेलन के बाद दिखाई दिए हैं। चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने पीएम मोदी के साथ मुलाकात की। ये हैरान करने वाली बात है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को जिनपिंग ने पूरी तरह से नजरअंदाज कर दिया।

पाकिस्तान जो खुद को चीन का सबसे अच्छा दोस्त मानता है। उसे इस तरह से नजरअंदाज करके चीन ने सख्त संदेश दिया है। बता दें कि हाल ही में खबर आई थी कि पाकिस्तान में दो चीनी नागरिकों की हत्या कर दी गई। इस काम में पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI का हाथ बताया जा रहा है। इसके बाद से चीन पाकिस्तान से नाराज है। इसी का असर अस्ताना में दिखाई दिया। चीनी मीडिया ने इस बारे में प्रमुखता से छापा है। जिसके मुताबिक शी जिनपिंग ने केवल पीएम मोदी और ताजिकिस्तान, तुर्कमेनिस्तान के नेताओं के साथ साथ स्पेन के किंग से मुलाकात की। बता दें कि स्पेन के किंग एससीओ समिट के साथ चल रहे वर्ल्ड एक्सपो में मौजूद थे

बताया जा रहा है कि दो नागरिकों की हत्या के बाद से चीन का रुख बदला है। उसे लग रहा है कि पाकिस्तान में माहौल निवेश करने के लिए ठीक नहीं है। चीन के रुख में बदलाव भारत के लिए काफी उत्साहजनक है। शंघाई कोऑपरेशन संगठन में पाकिस्तान के किसी नेता के साथ चीनन के किसी नेता की मुलाकात न होना कई इशारे कर रहा है। पाकिस्तान के लिए टेंशन की बात ये है कि शी जिनपिंग ने मोदी के साथ मुलाकात की। बता दें कि भारत और पाकिस्तान दोनों ही देशों को इस बार SCO की सदस्यता दी गई है। नवाज शरीफ ने पुतिन, अशरफ गनी के साथ तो मुलाकात की। लेकिन चीनी राष्ट्रपति के साथ मुलाकात न हो पाना उनके लिए चिंता का कारण है।

कुल मिलाकर क्वेटा में चीनी नागरिकों की हत्या के बाद से समीकरण बदल गए हैं। ISI पर सीधा आरोप लगा है। ऐसे में चीन की तरफ से पाकिस्तान को संकेत दिए जा रहे हैं। चीन में इस बात को लेकर काफी गुस्सा भी है। कहा जा रहा है कि चीन के कारण ही पाकिस्तान आज दुनिया के सामने खड़ा है। ऐसे में चीनी नागरिकों की हत्या के बाद पाकिस्तान ने वो रेखा पार कर दी है जिसके पीछे छुपकर वो आतंकी हरकतें करता है।

Advertisement

रिलेटेड कंटेंट के लिए नीचे स्क्रॉल करे..

Loading...
Advertisement

Leave a Comment