Rahul Gandhi playing games with Akhilesh Yadav

नई दिल्ली(रिपोर्ट अड्डा): उत्तर प्रदेश की सियासत लगातार बदल रही है। यहां राजनीति का अब नया रंग देखने को मिल रहा है। कांग्रेस ने समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन किया है। ये कांग्रेस की मजबूरी ज्यादा है सपा की जरूरत कम। सीट बंटवारे को लेकर जिस तरह से सपा ने कांग्रेस को मजबूर किया उस से कांग्रेस की साख पर धब्बा लगा है।

राष्ट्रीय पार्टी होने के बाद भी वो यूपी में केवल 105 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। ऊपर से भले ही कांग्रेस और सपा गठबंधन एकता की मिसालें दे रहा है। लेकिन अंदर ही अंदर कांग्रेस अपनी चालें चल रही है।राहुल गांधी और अखिलेश यादव की पहली साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस से ही इस बात के संकेत मिल गए थे कि कांग्रेस कुछ अलग करना चाह रही है। मायावती का जिक्र आते ही अखिलेश जहां हमलावर हो गए वहीं राहुल गांधी ने मायावती की विचारधारा की तारीफ की। राहुल गांधी ने कहा कि वो मायावती की इज्जत करते हैं। उसी समय ये साफ हो गया था कि कांग्रेस मायावती को एक विकल्प के तौर पर लेकर चल रही है।

अब जो खबर सामने आई है वो बेहद ही चौंकाने वाली है। सोशल मीडिया पर एक खबर तेजी से वायरल हो रही है। इसके मुताबिक बीएसपी के बड़े नेता और मायावती के करीबी सतीश चंद्र मिश्रा ने कांग्रेस के दो बड़े नेतओं से मुलाकात की है। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर और प्रमोद तिवारी से सतीश चंद्र मिश्रा की मुलाकात के बाद अटकलों का बाजार गर्म हो गया है। सूत्रों के मुताबिक इस मुलाकात के बाद सपा औऱ कांग्रेस के गठबंधन में मायावती को शामिल करके इसे महागठबंधन का जामा पहनया जा सकता है।

इस मुलाकात से ये भी साफ हो गया कि कांग्रेस सपा से गठबंधन के बाद भी अपनी चालें चल रही है। अगर चुनाव के बाद गठबंधन को पूर्ण बहुमत नहीं मिला तो कांग्रेस बीएसपी के साथ जा सकती है। ये बात जानते हुए भी कि अखिलेश यादव मायावती को पसंद नहीं करते हैं कांग्रेस ने माया के साथ बातचीत का विकल्प खुला रखा है। दरअसल ये कांग्रेस की मजबूरी है वो प्रदेश में किसी भी कीमत पर अपने दम पर सरकार नहीं बना सकती है। वो क्षेत्रीय दलों की पिछलग्गू बनने के लिए भी तैयार है। इस तरह से देखा जाए तो एक मंच पर एकता की मिसाल देने वाले राहुल गांधी पीठ पीछे अखिलेश के साथ धोखे की कहानी लिख रहे हैं।

Read Also : UP चुनाव: कांग्रेस की नैया पार लगाने के लिए ये कमान संभालेंगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *