Hindi चर्चित

अपनी जिम्मेदारियां छोड़ने के लिए मशहूर हैं अरविंद केजरीवाल, तो क्या अब…?

Kejriwal to PM

नई दिल्ली (ब्यूरो, रिपोर्ट अड्डा): राजनीति का बदलाव करने आए अरविंद केजरीवाल अब सियासी रंग में पूरी तरीके से रंग चुके है। दिल्ली की सत्ता पर बैठकर वो पार्टी के कद और हद को बढ़ाने का काम कर रहे है। दिल्ली की कुर्सी पर बैठकर केजरीवाल की निगाहों में पंजाब, गोवा और गुजरात के सपने को साफ देखा जा सकता है। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या अब दिल्ली की सत्ता छोड़ने का मन बना चुके हैं केजरीवाल ?

इस सवाल का उदय अरविंद केजरीवाल के इतिहास को देखकर हुआ। उनके अब तक के सफर को देखकर साफ लगता है कि वो एक जगह पर खुद को सिमित नहीं कर पाते हैं। उदाहरण के लिए देखा जाए तो जब वो IIT के छात्र थे, तो आईएएस बनने के लिए इंजिनियरिंग की नौकरी छोड़ दी। आईआरएस बने तो एनजीओ के लिए अपनी नौकरी को त्याग दिया।

फिर एनजीओ के जरिए पहचान बनाई तो आंदोलन के मंच पर चढ़ गए और भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनी लड़ाई को आवाज देने में लग गए। लेकिन केजरीवाल का मन यहां भी नहीं रुक पाया। आंदोलन अपने गंतव्य पर नहीं पहुंचता दिखा तो राजनीति में कूद गए। यहां से केजरीवाल का सफर, सियासी राह पर आकर टिक गया। लेकिन यहां भी अरविंद केजरीवाल खुद को नहीं थाम पाए।

पहली बार में ही अप्रत्याशित जीत दर्ज करने के बाद केजरीवाल दिल्ली की गद्दी पर पहुंचने में कामयाब हो गए। इसके बाद केजरीवाल ने लोकसभा के जरिए संसद में जाने का मन बनाया तो दिल्ली को त्याग दिया। लेकिन दिल्ली का विश्वास जीतने में कामयाबी पाते हुए एक बार फिर से दिल्ली की सत्ता पर काबिज हो गए। लेकिन अब ऐसा मालूम पड़ता है कि केजरीवाल पंजाब, गुजरात और गोवा को लेकर इतने गंभीर हो चुके है कि जल्द ही दिल्ली को बाय बाय बोल सकते है। ऐसे में दिल्ली की कमान  मनीष सिसोदिया के हाथ में आ जाएगी। फिलहाल तो सिसोदिया अपनी जिम्मेदारी से खुश बता रहे हैं लेकिन अगर केजरीवाल दिल्ली छोड़कर पंजाब या गुजरात चले जाते हैं तो ज्यादा चौकाने वाली खबर नहीं मानी जाएगी।

Advertisement

रिलेटेड कंटेंट के लिए नीचे स्क्रॉल करे..

Loading...
Advertisement

Leave a Comment