cow

cow

पिछले कुछ सालों में भारत में गाय को लेकर काफी बहस देखने को मिल रही है. प्राकृतिक तौर पर गाय इंसानों के लिए बहुत फायदेमंद है, हिंदुओं में गाय को काफी ऊँचा स्थान दिया गया है, मूत्र से लेकर सिंह तक औषधि के तौर पर इस्तेमाल किए जाते है, इसके अलावा गाय दिमागी तौर भी बहुत मजबूत होती है, उनमें संवेदनाएं भी कूट कूट के भरी होती हैं, आइये जानते हैं की गाय में क्या है ख़ास.

अलग अलग मिजाज की होती हैं गाय

अन्य जानवरों की तरह गाय भी अलग अलग मिजाज की होती हैं, कोई शांत स्वाभाव की होती है तो कुछ मस्त मौला गाय होती हैं. कुछ गायों को बहुत गुस्सा आता है तो कुछ गाय ऐसी भी होती हैं, जो अपने मालिक के प्रति बेहद वफादार होती हैं. एक रिसर्च के अनुसार गायों की याददाश्त काफी तेज होती हैं, वो बहुत दिनों तक याद रखती हैं कि इंसान या जानवर ने उनके साथ बुरा बर्ताव किया था, मौका आने पर वो हिसाब पूरा करने से नहीं चुकती हैं.

खुद चुनती हैं अपना नेता

इंसानों की तरह गाय भी अपना नेता खुद चुनती हैं, जब गायों का झुण्ड साथ में चलता है तो वो अपने नेता को चुनती हैं. वो ऐसी गाय को अपना नेता बनाती हैं जो बुध्दिमत्ता, अनुभव और आत्मविश्वास के पैमाने पर सभी गायों में सर्वश्रेष्ठ होती हैं.

अपनी समस्याओ का हल निकलना जानती हैं गाय

गाय इंसानों की तरह अपनी परेशानियों का हल ढूंढती हैं, किसी समस्या का समाधान ढूंढते वक़्त वो काफी उत्सुक भी रहती हैं, और समस्या का निपटारा हो जाने पर ख़ुशी का अनुभव भी करती हैं. आपने कई बार देखा होगा की प्यासी गाय पानी पीने के लिए हैंडपंप चलती हैं. कई बार एक से ज्यादा गाय हैंडपंप के इर्द गिर्द खड़े होकर बिना इंसानों की मदद के पानी पी लेती हैं.

मरने से डरती हैं गाय

कई शोध में सामने आया है की गाय मरने से इंसानों की तरह डरती हैं, कई बूचड़खानों से गाय आखिरी वक़्त में भागने में कामयाब रही हैं, जैसे ही उन्हें अपनी मौत का एहसास होता है वो वह से निकल भागने के प्रयास में जुट जाती हैं, इसी तरह गाय जब अपने करीबियों से बिछड़ती हैं तो रोने लगती हैं, क्योंकि उन्हें दर रहता है की नया मालिक ना जाने कैसा व्यवहार करेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *