पूरी दुनिया की नाक में दम करने वाले उत्तर कोरिया भारत से क्यों नहीं उलझता ?

उत्तर कोरिया भारत

दुनिया के मानचित्र पर एक छोटा से देश उत्तर कोरिया, जिसने अमेरिका जैसे देशों के नाक में दम कर रखा है। इस देश ने पूरी दुनिया की नाक में दम कर रखा है। अमेरिका ने इस पर कई तरह के प्रतिबंध लगाये हैं लेकिन वो सुधरने के बजाय दिन ब दिन परीक्षण करता रहता है साथ ही युद्ध की धमकी भी देता रहता है। कहते हैं वहां का तानाशाह सनकी है और कभी भी पूरी दुनिया विश्व युद्ध की आग में ढकेल सकता है।

लेकिन ऐसा क्या है कि ये देश कभी भारत को आंख नहीं दिखाता है। भारत के खिलाफ एक भी लफ्ज नहीं बोलता है। ऐसे में दुनिया के कई देशों को ये बात हजम नहीं होती कि ये अमेरिका को धमकी दे सकता है तो चाइना के दुश्मन भारत से क्यों नहीं उलझता है। कई बार इस मामले को वैश्विक मंचों पर उछाला भी गया है। लेकिन किसी के पास इस सवाल का सही जवाब नहीं मिला।

आज हम आपको बताते हैं कि क्या कारण है कि उत्तर कोरिया भारत को आंख दिखाने की जुर्रत नहीं करता है। दरअसल इसके पीछे भारत और उत्तर कोरिया के राजनीतिक रिश्ते हैं। दोनों देशों के बीच 1970 से व्यापारिक रिश्ते बने हुए हैं। इसके अलावा भारत, उत्तर कोरिया को सैन्य परीक्षण भी देता है। हालांकि भारत, उत्तर कोरिया के खिलाफ आवाज उठाता है लेकिन उत्तर कोरिया ने इस व्यापारिक रिश्तों की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया।

उत्तर कोरिया इसलिए भी आवाज नहीं उठाता है क्योंकि जब उसे जरूरत पड़ती है तो भारत मदद के लिए खड़ा रहता है। पिछले दिनों उत्तर कोरिया के घायल सैनिकों की मदद के लिए भारत ने ही डॉक्टरों की एक टीम भेजी थी। इसके अलावा भारत, उत्तर कोरिया को रिफाइन पेट्रोलियम भी बेचता है, ऑटो पार्ट्स के लिए उत्तर कोरिया भारत पर निर्भर है। खाने पीने के कई सामानों के लिए वो भारत से आपूर्ति पूरी करता है। इसलिए उत्तर कोरिया चाहकर भी भारत को आंखें नहीं दिखाता है। वहीं भारत लगातार उत्तर कोरिया के खिलाफ जंग में अपने योगदान की बात कहता रहा है।