अगर आपकी शादी नहीं हुई है, तो जरूर पढ़ें: देखें किस तरह बढ़ रहे पति उत्पीड़न के मामले

husband wife

husband wife

जैसे ही आप दुनिया के बारे में जानने के लिए अख़बार खोलेंगे या फिर टीवी ऑन करेंगे तो आपकी नज़र किसी न किसी, ऐसी खबर पर पड़ेगी जहां पत्नी पर पति द्वारा अत्याचार किया गया होगा, लेकिन आज हम जो आपको बताने जा रहे हैं उसे जानकार आप चौंक जाएंगे. पिछले कुछ दिनों में पतियों की तरफ से पत्नियों के खिलाफ शिकायतों की संख्या में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है.

इन शिकायतों में पत्नियों ने नहीं बल्कि पतियों ने अपनी पत्नियों पर उत्पीड़न जैसे आरोप लगाया है। उत्तर प्रदेश में ऐसे एक दो नहीं बल्कि एक दर्जन से अधिक से ज्यादा मामले पिछले 20 दिनों में महिला थाने में आए हैं।

महिला थाने में पत्नियों से परेशान पतियों की शिकायतों के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। जानकारी के मुताबिक पिछले 20 दिनों में 10 से अधिक केस महिला थाने में दर्ज कराये गए है. वैसे तो महिला थाना महिलाओं के लिए बनवाया गया है, लेकिन अब पुरुष भी महिला थाने की शरण में पहुँच रहे हैं. ज्यादातर मामलों में पतियों ने अलग रहने की शिकायत दर्ज करवाई है। अधिकारियों के मुताबिक महिला थाने में आने वाले मामलों में 50 फीसदी मामले ऐसे आ रहे हैं, जिसमें काउंसलिंग के दौरान दोनों पक्षो की गलती सामने आती है। ऐसे भी कई मामले सामने आये हैं, इन्हीं शिकायतों में ऐसे मामले हैं जहां पतियों ने पत्नियों की शिकायते दर्ज की है।

वहीं दूसरी तरफ पति और पत्नी के बीच आपसी मामलों को सुलझाने के लिए बनाए गए परिवार परामर्श केंद्रों में के भी सीन कुछ अलग ही देखने को मिल रहा था। वहां मौजूद काउंसलर्स का कहना है कि महीने में 40 से ज्यादा केस आए हैं, जिनमें पचास फीसदी मामले में पतियों ने शिकायत दर्ज कराई है।

पति और पत्नी के बीच होने वाले झगड़ो के बारे में जब समाज सेवकों से बात की गई, उनका कहना है कि अब समय बदल चुका है, इसका कारण है आपसी रिश्तों को समझने के लिए न तो पति के पास समय है और न हीं पत्नियों के पास। दरअसल पति आॅफिस, बिजनेस की जितनी भी टेंशन हैं तो उससे परेशान होकर अंदर ही अंदर घुटता रहता है और इस घुटन के कारण उसका स्वभाव चिड़चिड़ा हो जाता है।

ऐसी स्थिति में दोनों के बीच कम्युनिकेशन गैप इतना गहरा हो जाता है की दोनों एक दूसरे की बात समझने को तैयार ही नहीं हैं. धीरे धीरे दोनों के बीच दूरियां बढ़ जाती हैं. पिछले कुछ समय में ये भी देखने को आया है कि पतियों को अपने अधिकारों के बारे में भी पता चला है लिहाजा वो पत्नियों की शिकायत से पहले ही अपनी शिकायत लेकर महिला थाने पहुँच जा रहे हैं.