hanuman ji

hanuman ji

हनुमान जी की कृपा हासिल करने के लिए भक्त उनकी पूजा करते हैं। शनिवार और मंगलवार को व्रत रखते हैं। सबसे खास बात ये है कि हनुमान चालीसा का पाठ करते हैं। हनुमान चालीसा की रचना तुलसीदास ने की थी। हनुमान चालीसा में पूरा वर्णन है कि किस तरह से हनुमान जी ने अपने बचपन में लीलाएं दिखाई थीं। जसे सूर्य को मुख में रख लेना। जिसके बाद इंद्र ने हनुमान पर वज्र से प्रहार किया था। जिस से हनुमान मूर्छित हो गए थे। जब सभी देवों को ये बात पता लगी कि हनुमान शिव भगवान के रुद्र अवतार हैं तो सभी ने मिलकर उनको कई शक्तियां प्रदान की थी।

हनुमान भगवान की इन्ही शक्तियों के बारे में हनुमान चालीसा में लिखा गया है। हनुमान चालीसा में मंत्र नहीं बल्कि चौपाईयां हैं। हम आपको हनुमान चालीसा की 5 ऐसी चौपाईयों के बारे में बताने वाले हैं जिनमें दिव्य शक्ति है। इन चौपाईयों का पाठ करने से कष्ट दूर हो जाते हैं। इनका पाठ करने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखें। हनुमान चालीसा का पाठ करते समय उच्चारण में त्रुटि ना करें। नियमित पाठ करने से निश्चित तौर पर लाभ होता है।

पहली चौपाई
भूत-पिशाच निकट नहीं आवे।
महावीर जब नाम सुनावे।।
इस चौपाई का जाप वो लोग करें जिनको किसी भी प्रकार का भय सताता है, आपको नित्य रोज सुबह  और शाम में 108 बार इस चौपाई का जाप करना है। अगर ऐसा किया तो सभी तरह से भय और डर दूर हो जाते हैं।

 

दूसरी चौपाई
नासै रोग हरै सब पीरा।
जपत निरंतर हनुमत बल बीरा।।
यो चौपाई बीमारी सो दूर करने वाली है। अगर व्यक्ति बीमारियों से घिरा रहता है तो निरंतर सुबह-शाम 108 बार जप करके और मंगलवार को हनुमान जी की मूर्ति के सामने पूरी हनुमान चालीसा के पाठ करने से रोगों की पीड़ा खत्म हो जाती है।

तीसरी चौपाई
अष्ट-सिद्धि नवनिधि के दाता।
अस बर दीन जानकी माता।।
अगर जीवन मुश्किल हो रहा है, और आप को लग रहा है कि आपके काम नहीं हो पा रहे हैं तो रोज सुबह ब्रह्म मुहूर्त में आधा घंटा इन पंक्तियों के जप से लाभ प्राप्त हो सकता है। साथ ही अगर आपको भी जीवन मं शक्ति हासिल करनी है तो इस चौपाई का जाप करें।

चौथी चौपाई
विद्यावान गुनी अति चातुर।
रामकाज करीबे को आतुर।।
अगर आप धन प्राप्ति की मशा रखते हैं, लेकिन मेहनत के बाद भीआप सफल नहीं हो पा रहे हैं, तो इस चौपाई के जाप से हनुमान जी का आशीर्वाद प्राप्त हो जाता है। रोजाना 108 बार ध्यानपूर्वक जप करने से व्यक्ति के आर्थिक कष्ट दूर हो जाते हैं।

पांचवी चौपाई
भीम रूप धरि असुर संहारे।
रामचंद्रजी के काज संवारे।।
अगर आप शत्रुओं से परेशान हैं, आप को लग रहा है कि आपका अहित चाहने वाले सफल हो रहे हैं तो हनुमान चालीसा की इस चौपाई का जाप करना चाहिए। 108 बार इस चौपाई का जाप करने से आपके कष्ट दूर हो जाते हैं। आपके शत्रु खुद ही किनारे हो जाते हैं। आपकी राह से सारे कांटे निकल जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *