mandeep-kumar-funeral_cisf

mandeep-kumar-funeralसोचिए उस मां के बारे में जिसके सामने मदर्स डे के मौके पर उसके लाडले का शव पड़ा हो।क्या बीती होगी उस पिता के दिल पर जो अपने बेटे की शादी के अरमान जुटा कर रखता होगा। जम्मू कश्मीर के पुलवामा में आतंकियों का मुकाबला करते हुए सीआरपीएफ बटालियन के जवान मनदीप कुमार शहीद हो गए। जब उनका शव उनके गांव में पहुंचा तो देखने वालों का कलेजा फट कर बाहर आ गया।

जम्मू कश्मीर के पुलवामा में जिले के चिनारबाग में सर्च अभियान चलाया जा रहा था। कि तभी बुजदिल आतंकियों ने सेना की टुकड़ी पर फायरिंग शुरू कर दी। इस मुठभेड़ में सीआरपीएफ की 182 बटालियन के जवान मनदीप कुमार शहीद हो गए। रविवार यानी की मदर्स डे के दिन शहीद का अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव में किया गया। तिरंगे में लिपटा जब शहीद मनदीप का पार्थिव शरीर उनके गांव पहुंचा तो पूरे गांव में मातम पसर गया।mandeep-kumar-funeral_cisf

दरअसल पार्थिव शरीर शनिवार को ही पहुंच गया था लेकिन उनके पैतृक गांव भेजने के बजाय शव को गुरुदासपुर के सिविल अस्पताल में रखा गया था। मां को शनिवार तक बेटे के शहीद होने की जानकारी नहीं दी गई। शव लाने के कुछ घंटे पहले ही मां कुंती देवी को बेटे की शहादत के बारे में बताया गया। बेटे के बारे में बुरी खबर सुनकर मां पत्थर की तरह सुधबुध खोकर बैठी थी। बेटे के शव को देखने बाद उसका सब्र जवाब दे गया। उसकी चीत्कार से देखने वालों का दिल छलनी हो गया।

कुंती देवी रविवार को बेटे के लिए रिश्ता पक्का करने जाने वाली थी। उसे उम्मीद थी कि मदर्स डे पर मेरा बेटा मुझे फोन करेगा और विश करेगा तो मैं उसे उसके रिश्ते की जानकारी दूंगी, लेकिन किस्मत में कुछ और ही लिखा हुआ था। मनदीप के पिता ने खुद को संभालने की बहुत कोशिश की लेकिन बेटे की अर्थी को कंधा देने से पहले वो फूट फूट कर रोए। मां ने बेटे के अंतिम संस्कार से पहले उसे सेहरा पहनाया और उसकी अर्थी को कंधा देकर विदा किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *