danny-gabbar

danny-gabbarबॉलीवुड के कुछ रोल ऐतिहासिक हो चुके हैं। इनको भूल पाना लगभग नामुमकिन है। इन्हीं में से एक हैं फिल्म शोले का गब्बर का रोल। इस रोल में अमजद खान ने खलनायकी के लिए एक अलग पैरामीटर सेट कर दिए थे। उनके इस किरदार की नकल आज तक फिल्मों में देखी जाती है। लेकिन क्या आपको पता है कि अमजद खान से पहले रमेश सिप्पी ने इस रोल के लिए किसको अप्रोच किया था। यह थे डैनी डेन्जोंगपा।

डैनी ने इस रोल के लिए इनकार कर दिया था। हांलाकि अमजद खान ने इस किरदार को पर्दे पर जीने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी लेकिन विलेन के रोल में डैनी की कल्पना लोगों को रोमांचित कर देती है। मन में एक सवाल पैदा हो जाता है कि आखिर किस वजह से इतने बड़े डायरेक्टर के ऑफर को डैनी ने ठुकरा दिया था। जबकि डैनी खुद तब तक बड़े स्टार नहीं बने थे।Amjad-Khan-gabbar-danny

एक अखबार से बातचीत में डैनी ने 43 साल बाद खुलासा किया कि किन परिस्थितियों में उन्होंने गब्बर के रोल को इनकार किया था। दरअसल हुआ यह था कि डैनी ने रमेश सिप्पी से मुलाकात से पहले फिल्म धर्मात्मा के लिए फिरोज खान से मुलाकात की थी। फिरोज खान को हां बोल देने के बाद अफगानिस्तान में शूटिंग की परमिशन ली जा चुकी थी। फिरोज खान को मना करना फिल्म के बजट के असर पर डाल सकता था। लिहाजा डेट के कारणों से डैनी ने फिल्म को इनकार किया था।

हालांकि डैनी स्वीकार करते हैं कि उन्हें इस रोल को मना करने का कोई मलाल नहीं है, क्योंकि अमजद खान ने न सिर्फ इस रोल के लिए कड़ी मेहनत की थी बल्कि किरदार के साथ पूरा इंसाफ भी किया। डैनी ने कहा कि अमजद खान के इस रोल से उन्हें भी फायदा मिला था। शोले के बाद अमजद खान की फीस बढ़ गई थी, जिसकी वजह से ऑटोमेटेकली डैनी की फीस में भी इजाफा भी हुआ था। डैनी की इस साल तीन फिल्में रिलीज होने वाली हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *