अंतरराष्ट्रीय

पाकिस्तान पर ट्रम्प का पहला प्रहार, बड़े पाक नेता को वीजा देने से इंकार

डोनल्ड ट्रम्प का पाकिस्तान को झटका

नई दिल्ली(रिपोर्ट अड्डा) : अमेरिका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प से पाकिस्तान के डर के पीछे वाकई में सही कारण है। पाकिस्तान में जो हाय तौबा मची हुई है कि ट्रम्प ये कर देगा वो कर देगा वो अकारण ही नहीं है। ट्रम्प ने पाकिस्तान के खिलाफ पहला प्रहार कर दिया है। इसी के साथ संकेत दे दिया है कि वो किसी भी कीमत पर आतंकियों को पनाह देने वालों के साथ रियायत नहीं बरतेंगे। पाकिस्तान पर आतंकियों को पनाह देने का आरोप आज से नहीं सालों से लगता रहा है।

पाकिस्तान की सीनेट के उपाध्यक्ष मौलाना अब्दुल गफूर हैदरी को वीजा देने से मना कर दिया है। हैदरी पाकिस्तान की बड़ी इस्लामी पार्टी जमायत उलेमा इस्लाम के महासचिव भी हैं। यो पहली बार है जब ट्रम्प ने पाकिस्तान के खिलाफ कोई कदम उठाया है। इस कदम से पाकिस्तान की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बेइज्जती हुई है। इस से बौखला कर पाकिस्तान सीनेट के अध्यक्ष रजा रब्बानी ने अगले आदेश तक अपने यहां किसी भी अमेरिकी सांसद, नेता या प्रतिनिधिमंडल के स्वागत पर बैन लगा दिया है।

हैदरी को 13 से 14 फरवरी को न्यॉर्क में अंतर संसदीय संघ की बैठक में शामिल होना था। उन्होंने वीजा के लिए आवेदन किया था। लेकिन अमेरिका ने वीजा देने से इंकार कर दिया। इस के बाद से ही पाकिस्तान में हाय तौबा मच गई है। एक बार फिर से ट्रम्प को इस्लाम का दुश्मन कहा जा रहा है। खास बात ये है कि अमेरिका का ये फैसला ट्रम्प दवारा 7 मुस्लिम देशों के नागरिकों के अमेरिका में आने पर लगे बैन के आदेश के आया है। पाकिस्तान इसके उसी फैसले से जोड़कर देख रहा है।

खास बात ये है कि पहले पाकिस्तानी नेताओं को आसानी से अमेरिका का वीजा मिल जाता था. वहां के बड़े नेताओं को वीजा की चिंता नहीं होती थी। लेकिन अब हालात बदल गए हैं। डोनल्ड ट्रम्प पूरी दुनिया में अपनी आलोचना के बाद भी अपने फैसलों पर अड़े हुए हैं। वो लगातार आतंकवाद के खिलाफ कदम उठा रहे हैं। उन्होंने कहा क अगर आतंकवाद के खिलाफ उनके फैसलों पर अदालत रोक लगाती है तो कोई आतंकी घटना होने पर अदालत जिम्मेदार होगी। फिलहाल पाकिस्तान के लिए खतरे की घंटी बज चुकी है।

Read Also : राष्ट्रपति बनते ही ट्रम्प ने जो कहा…सुनकर पाकिस्तान की सुलग उठी

Leave a Comment