mahadev

mahadevभोले भंडारी, महादेव, भोलेनाथ, महाकाल, और भी न जाने कितने नाम हैं, सभी एक ही हैं, आदि भी यही हैं अंत भी यही हैं, निर्माण से लेकर विनाश तक यही हैं, महादेव के भक्तों के लिए वो सब कुछ हैं, दुनिया का सार वो हैं, महादेव के भक्तों के लिए महाशिवरात्रि का क्या महत्व है ये पूछने की जरूरत नहीं है, जब सृष्टि के सारे तार महादेव से जुड़े हैं तो जीवन और मृत्यु भी उनसे जुड़े हैं. खुद महादेव ने इस बारे में बताया है, शिवपुराण में आपको मौत के संकेत के बारे में जानकारी मिल जाएगी, जिसके बारे में हम आपको बताने वाले हैं

शिवपुराण का महत्व
महादेव, महाकाल के उपासकों के लिए शिवपुराण सब कुछ है, इस पुराण में कई महत्वपूर्ण बातें हैं, जिनको जानने के बाद जीवन की गुत्थी सुलझती दिखेगी, इस में आपको जीवन से मौत तक बहुत कुछ जानने को मिलेगा. इसी शिवपुराण में मृत्यु के बारे में क्या लिखा है वो हम बताते हैं।

मौत के संकेत
कहते हैं कि मौत पर किसी का बस नहीं है, वो आनी ही है, कब आएगी, ये भी नहीं पता, लेकिन शिवपुराण में उसके कुछ संकेत जरूर बताए गए हैं, जो आप जान ले तो पता चल सकता है कि कब आपकी मौत होने वाली है। ये संकेत महादेव ने माता पार्वती को बताए थे, सबसे पहले बताते हैं शरीर से संबंधित संकेत

शरीर से संबंधित संकेत
अगर किसी इंसान का शरीर शपेद या पीला पड़ जाए, या फिर लाल रंग के निशान दिखने लगे तो उसकी मौत 6 महीने के अंदर हो सकती है। किसी शख्स के मुंह, कान, आंख और जीभ ठीक से काम न करें, तो शिवपुराण के मुताबिक उसकी जिंदगी के केवल 6 महीने बचे हुए हैं।

बार-बार गला सूखने लगे
अगर किसी इंसान का मुंह या फिर गला बार बार सूखने लगे, उसे बार बार प्यास लगने लगे, ऐसा लगे जैसे प्यास खत्म होने का नाम नहीं ले रही है तो ये समझ लेना चाहिए कि उसके पास केवल 6 महीने का समय बचा हुआ है। उसे अपने बचे हुए काम पूरे करने की दिशा में काम करना शुरू कर देना चाहिए।

शरीर के अंग फड़कने लगे
अगर किसी इंसान के शरीर का बायां हाथ लगातार एक हफ्ते तक फड़कता रहे, सारे अंगों में अंगड़ाई आने लगे या फिर जीभ की तालू सूख जाए तो उस मनुष्य की मृत्यु एक महीने के अंदर हो सकती है। ये संकेत इंसानी शरीर से संबंधित है, पशु पक्षियों से संबंधित भी कुछ संकेत होते हैं जिनके बारे में हम बताते हैं।

पक्षिय़ों से मृत्यु के संकेत
अगर किसी व्यक्ति को अचानक नीली मक्खियां घेर लें तो कहा जाता है कि उसकी केवल एक महीने की उम्र बाकी है। अगर किसी इंसान के सिर पर गिद्ध, कौआ या कबूतर बैठ जाए या घेर लें तो उसकी मौत एक महीने में हो सकती है। महाकाल ने ये संकेत पशु पक्षियों के माध्यम से दिए हैं। कुछ और भी संकेत हैं

अलग तरह के संकेत
अगर किसी इंसान को पानी, तेल, घी और शीशे में अपनी परछाई न दिखे तो 6 महीने के अंदर उसकी मौत हो सकती है। अगर परछाई बिना सिर के दिखाई दे तो उम्र के केवल 6 महीने बचे हो सकते हैं। आग की रोशनी ठीक से नहीं दिखाई देना भी मृत्यु का संकेत हैं, ये सारे संकेत महाकाल ने शिवपुराण में माता पार्वती को बताए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *