चूहों पर लगा बच्चे की हत्या का आरोप, आईसीयू में भर्ती था नवजात

नवजात बच्चे को इलाज के लिये अस्पताल लाया गया था, जहां डॉक्टरों ने बच्चे की हालत नाजुक बताते हुए एनआईसीयू में भर्ती कराया था।

New Delhi, Oct 30 : बिहार के दरभंगा में एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसे सुनकर हर कोई हैरान है, दरअसल यहां पर अस्पताल कर्मचारियों की एक बड़ी लापरवाही सामने आई है, लापरवाही की वजह से एक मासूम बच्चे की जान चली गई। बताया जा रहा है कि दरभंगा स्थित डीएमसीएच में चूहों ने एक नवजात बच्चे की जान ले ली। सूचना के मुताबिक पीड़ित परिवार मधुबनी जिले के पंडौल का रहने वाला है।

अस्पताल प्रशासन पर सवाल
मासूम नवजात को इलाज के लिये अस्पताल लाया गया था, लेकिन अस्पताल कर्मियों की लापरवाही की वजह से वो इस दुनिया से विदा हो गया। बच्चे की मौत की घटना से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई है, इसके साथ ही लोग अस्पताल प्रशासन पर सवाल उठा रहे हैं।

इलाज के लिये लाया गया था अस्पताल
नवजात को इलाज के लिये अस्पताल लाया गया था, जहां डॉक्टरों ने बच्चे की हालत नाजुक बताते हुए एनआईसीयू में भर्ती कराया था, एनआईसीयू में चूहों ने बच्चे के पैर को ही अपना निवाला बना लिया, वो उसे खा गये जिसकी वजह से बच्चे की मौत हो गई, पीड़ित परिवार अस्पताल के कर्मचारियों पर लापरवाही का आरोप लगा रहे हैं, उनका कहना है कि चूहे के काटने की वजह से बच्चे की मौत हो गई।

9 दिनों से था भर्ती
आपको बता दें कि मामला दरभंगा के अस्पताल के शिशु विभाग का है, जहं एक बच्चा पिछले 9 दिनों से एनआईसीयू में भर्ती था, बच्चे के गुजर जाने के बाद परिजनों का बुरा हाल है, उन्होने अस्पताल के कर्मचारियों पर आरोप लगाया है कि उनके ध्यान ना देने की वजह से ही चूहों ने बच्चे के पैर को कुतर दिया, जिसकी वजह से उसकी मौत हो गई, बच्चे के पैर पर जख्म के निशान मिले हैं।

बुरी तरह कुतर दिया
अस्पताल में बड़े-बड़े चूहे हैं, जिसने बच्चे के पैर को इस तरह से कुतर दिया था कि मरहम-पट्टी करने के बाद भी बच्चे के पैर से खून का रिसाव कम नहीं हुआ था, अस्ताल के डॉक्टर ओम प्रकाश ने मामले में कहा कि एनआईसीयू में चूहे हैं, हालांकि उन्होने ये भी कहा कि बच्चे की मौत चूहे के काटने की वजह से नहीं हुई है, अस्पताल में मौजूद दूसरे मरीजों का कहना है, चूहों ने उन्हें परेशान कर रखा है, जो मिलता है, उसे ही कुतर देते हैं।