चर्चित राज्य

अखिलेश और मायावती का गठबंधन हो गया…राहुल गांधी कामयाब हुए !

rahul gandhi akhilesh yadav Mayawati

रिपोर्ट अड्डा(नई दिल्ली): गुरुवार की सुबह अगर आप देर से सोकर उठे हैं तो आपके लिए सबसे अहम खबर हम लेकर आए हैं। उत्तर प्रदेश में चुनाव खत्म हो गए हैं। बुधवार को आखइ दौर के मतदान के साथ ही एक महीने से चल रहा लोकतंत्र का उत्सव खत्म हो गया है। इसी के साथ एग्जिट पोल्स का दौर भी शुरू होने वाला है। लेकिन उस से पहले हम आपको ये खबर देने वाले हैं जिसके बारे में जानने के बाद एग्जिट पोल्स का महत्व कुछ कम हो जाएगा।

आखिरी दौर का प्रचार खत्म होने के बाद अखिलेश यादव ने एक पीसी में कहा था कि वो चाहते हैं कि मायावती उनके घर पर चाय पीने के लिए आएं। दरअसल अखिलेश ने तंज मारते हुए कहा था कि मायावती उनके घर आएं और अपने बनाए पत्थर के हाथियों का हिसाब दें और अखिलेश के लगाए पत्थरों का हिसाब लें। इस खबर के बाद ही कहा जाने लगा कि अखिलेश अब माया के साथ गठबंधन को इच्छुक दिख रहे हैं।

अखिलेश के सहयोगी राहुल गांधी पहले से ही इस बात का इशारा कर रहे हैं कि मायावती भी गठबंधन में शामिल होकर इसे महागठबंधन बना दें। यही कारण है कि वो लगातार मायावती की तारीफ करते रहे। राहुल ने पूरे प्रचार के दौरान मायावती पर निशाना नहीं साधा। वहीं अखिलेश माया पर तीखा हमला करते रहे। लेकिन अब चुनाव खत्म होने के साथ ही अखिलेश को अहसास होने लगा कि शायद परिणाम आशानुरूप न आएं। यही कारण है कि वो माया को संकेत देने लगे हैं।

अब जो खबर निकल कर सामने आई है उसके मुताबिक माया और अखिलेश के प्रतिनिधियों के बीच लखनऊ में मुलाकात हुई है। गुप्त सूत्रों से पता चला है कि दोनों ही सियासी दलों के प्रतिनिधियों ने आपस में काफी देर तक बात की है। इस मुलाकात में दोनों दलों के कुछ बड़े नेता भी शामिल बताए जा रहे हैं। इस खबर में अगर जरा भी सच्चाई है तो ये मान लेना चाहिए कि यूपी का सियासी समीकरण एक बार फिर से बदलने वाला है। सपा-बसपा और कांग्रेस मिलकर महागठबंधन बनाने वाले हैं। और इसी के साथ सत्ता का फॉर्मूला भी तय कर लिया गया है।

Leave a Comment