चर्चित राष्ट्रीय

यूपीए सरकार का एक और घोटाला…कांग्रेस पर फिर लगी कालिख…CBI ने दर्ज की FIR

Soniya Manmohan UPA Scam

नई दिल्ली(रिपोर्ट अड्डा): केंद्र में मोदी सरकार के तीन साल पूरे हो गए हैं। अभी तक मोदी सरकार के दामन पर घोटाले का दाग नहीं लगा है. आज भी यूपीए सरकार के घोटालों की चर्चा होती है. अब मनमोहन सिंह सरकार का एक और घोटाला सामना आया है। इस बार मामला एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइंस के विलय का है। इस मामले में सीबीआई ने एफआईआर दर्ज कर ली है। ये घोटाला कांग्रेस के लिए मुसीबत की तरह सामने आया है। Read Also : घोटालेबाज लालू का घोटालेबाज बेटा ! नीतीश कुमार का बड़ा फैसला !

सीबीआई ने एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइंस के मर्जर से जुड़े मामलों की जांच के लिए एफआईआर दर्ज की है। सीबीआई के मुताबिक दोनों एयरलाइंस के विलय की वजह से करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ। इस घोटाले में सीबीआई ने 3 FIR दर्ज की है। इनमें 111 विमानों की खरीद, विमानों को पट्टे पर देना और एयर इंडिया द्वारा कमाई वाले हवाई मार्गों को छोड़ने की जांच शामिल है। एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइंस का विलय यूपीए सरकार के दौरान हुआ था।

बता दें कि मार्च 2007 में यूपीए सरकार ने एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइन्स के विलय को मंजूरी दी थी। विलय के बाद नई एयरलाइन में दोनों कंपनियों के करीब 120 विमान और 30 हजार से ज्यादा कर्मचारी एक हो गए। विलय के बाद भी एयरलाइन के सरकारी स्वरूप में कोई बदलाव नहीं हुआ। दोनों के विलय के पीछे तर्क ये दिया गया था कि इश से नुकसान की भरपाई हो सकेगी।

बताया जा रहा है कि एयर इंडिया पर 52,000 करोड़ रुपये की देनदारी है। इसका अकेले ब्याज ही 4,000 करोड़ रुपये सालाना है। पिछले पांच सालों में सरकार ने इस एयरलाइन को 25,000 करोड़ रुपये दिए हैं। इन तमाम कोशिशों के बाद भी एयर इंडिया को सालाना 3,000 करोड़ रुपये का घाटा हो रहा है। अधिकारियों का मानना है कि कंपनी की मौजूदा हालत के लिए एयर इंडिया-इंडियन एयरलाइंस का विलय भी जिम्मेदार है। अगर सीबीआई की जांच होती है तो सोनिया गांधी समेत कांग्रेस के कई नेताओं की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

Read Also : अब नपेंगे सोनिया के दामाद, कोई नहीं बचा पाएगा रॉबर्ट वाड्रा को !

Leave a Comment