मोदी सरकार की कोशिशों ने दिखाया रंग, दिवाली से पहले बाजार हुआ गुलज़ार- शेयर बाजार में भी आतिशबाजी

पीएम मोदी

पीएम मोदी

अर्थव्यवस्था में आई सुस्ती को लेकर विपक्ष लगातार मोदी सरकार को घेर रहा है, सरकार की नीतियों पर सवाल उठाये जा रहे है, ऐसे में दिवाली से ठीक पहले सेंसेक्स में तेजी देखने को मिली. अचानक से आई इस तेजी से सरकार के खेमे में ख़ुशी की लहर दौड़ गई है. आज सुबह शेयर बाजार के खुलते ही जबरदस्त उछाल देखने को मिला. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ़्टी रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुँच चूका है, निफ़्टी ने 10234 के रिकॉर्ड अंक को छुआ जो अब तक का सर्वश्रेष्ठ है. निफ़्टी की तरह बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सेंसेक्स भी ऊंचाई पर पहुंचा.

सेंसेक्स ने शुरुआती कारोबार में 32687 के अंक को छुआ. शेयर बाजार के इतिहास में ये अब तक का सबसे ऊँचा स्तर है. शेयर बाजार के सभी सेग्मेंट्स में एकाएक तेजी देखने को मिली. इस तेजी से मोदी सरकार काफी राहत महसूस कर रही है. हालाँकि विपक्ष इसके पीछे दिवाली के फेस्टिवल मूड को कारण बता रहा हैं लेकिन सरकार के अधिकारियों के कहना है जो सुस्ती दिवाली से पहले आयी थी, दिवाली के बाद वैसा माहौल दोबारा देखने को नहीं मिलेगा.

दिवाली की खरीदारी की वजह से ऑटो सेक्टर, फाइनेंसियल और बैंकिंग सेक्टर और ऑटो इंडेक्स में तेजी देखने को मिलेगा. शेयरों की बात करें तो निफ़्टी पर भारती एयरटेल, इंफ्राटेल, वेदांत, आयसर मोटर्स और आईसीआईसीआई बैंक के शेयरो में तेजी देखने को मिली. इस उछाल को लेकर जब विशेषज्ञों से चर्चा हुई तो उन्होंने स्वीकार किया की GST और नोटबंदी एक साहसिक कदम है और इसी के परिणाम बाजार पर दिखाई दे रहे है.

कई विशेषज्ञों ने माना है की जो नाजी बाजार में दिख रहे है उसके पीछे दमदार तिमाही है, जहाँ काफी बड़े बदलाव हैं हुए है. उन्होंने इतिहास का हवाला देते हुए कहा कि जब कभी भी किसी अर्थव्यवस्था में बड़े फैसले लिए जाते हैं तो शुरुआत में परेशानियां आती हैं. लेकिन अगर दिक्कतों को देखते हुए जरुरी बदलाव किये जाएँ तो बेहतर परिणाम देखने को मिल सकते है. दिवाली से पहले बाजार में आई तेजी ऐसा ही कुछ दिखा रही है.